योग गुरु कहते हैं Viparita Karani Yogasan 13 से 14 बीमारियों को खत्म करे जड़ से, जानिए फायदे और सावधानियां

आज हम बात करेंगे एक ऐसे योगासन के बारे में जो अगर आप रोजाना 5 से 10 मिनट करेंगे, तो रोगों से बच सकते हैं यह कम से कम 13 से 14 बीमारियों को खत्म करने की ताकत रखता है। इस योगासन का नाम है Viparita Karani Yogasan.

viparita karani yogasan
viparita karani yogasan in hindi

जिसमें आपको दीवार के सहारे पैर को सीधे ऊपर की ओर रखने होते हैं और कमर के बल नीचे लेटना होता है और कुछ देर इसी तरह से स्थिति में रूके रहना पड़ता है।

तो हम बात करेंगे कि इस आसन को करने के लिए कौन सी सावधानियां बरतनी चाहिए? और किसको इस आसन से दूर रहना चाहिए? इसके क्या लाभ हो सकते हैं? और कौन सी बीमारियों को ठीक करने में सक्षम रहता है।

Viparita Karani Yogasan के फायदे:

अगर आप रोजाना इस आसन को 5 मिनट से ज्यादा समय के लिए कर लेते हैं तो सबसे पहले आप stress को पूरी तरह खत्म कर लेंगे, और रोजमर्रा के कामों को निपटाने में आपको कोई परेशानी नहीं होगी आप खुश व चिंता मुक्त रहेंगे।

अगर कोई व्यक्ति अर्थराइटिस से परेशान है तो यह योगासन उसमें रामबाण इलाज की तरह माना जाता है इसे 5 से 10 मिनट रोज करें। आप बिना दवाइयां के भी अर्थराइटिस से निजात पा सकते हैं।

अगर किसी को कब्ज की समस्या या फिर अपच है तो इस आसन को करने से आपको एक से दो दिन में अच्छा परिणाम मिलेगा। इससे बहुत जल्दी पाचन से संबंधित सारी समस्याएं दूर हो जाएंगी।

जब आप आसन को करेंगे तो जमीन पर लेते होंगे और आपके पैर ऊपर की तरफ दीवार के सहारे होंगे इसका मतलब है कि आपका ख़ून सिर की तरफ ज्यादा तेजी से जाएगा, जिससे सिर में ऑक्सीजन भी अच्छी तरह से पहुंच पाएगी। अगर किसी को लंबे समय से सर दर्द रहता है या फिर माइग्रेन वगैरा है तो वह बहुत ही जल्दी ठीक हो जाएगा।

बड़े-बड़े योग गुरु बताते हैं कि Viparita Karani Yogasan को करने से ब्लड सरकुलेशन की गति अच्छी हो जाती है यानी के अगर आपको हाई ब्लड प्रेशर या फिर लो ब्लड प्रेशर की प्रॉब्लम है तो इस योगासन को करें दोनों ही समस्याओं में आपको राहत मिलेगी।

इसके अलावा अगर आप इंसोमेनिया से जूझ रहे हैं जिसमें आपको सोने में परेशानी होती है नींद नहीं आती, ऐसे में इस आसन को करने से आपको बहुत ही सुकून की नींद आएगी।

आज कल बड़ों को ही नहीं बल्कि बच्चों को भी डिप्रेशन होने लगा है इस योगासन से डिप्रेशन का लेवल बहुत कम हो जाएगा।

अगर आपके पैरों में दर्द है। घुटनों में परेशानी है चलने फिरने में दिक्कत होती है। या आपकी नशे दबती हैं। पैरों में चुभन, झनझनाहट या खिंचाव महसूस होता है तो यह आसान आपके लिए एक अचूक इलाज है। जो हफ्ता भर में ही अच्छा परिणाम देगा।

महिलाओं में menstruation के दौरान पैरों और पेट के निचले हिस्से में दर्द होता है। अगर किसी महिला को बहुत ज्यादा दर्द है तो वह 5 से 10 मिनट इस आसन को रोजाना करें। मेंस्ट्रूअल क्रैंप्स में आराम होगा।

मेंसुरेशन में अधिक समय लगता है या अनियमितता होना बड़ी परेशानी का कारण बन सकती है Viparita Karani Yogasan से आपको सही समय पर पीरियड्स आने लगेंगे।

अगर आपकी sex life मैं कोई परेशानी है तो Viparita Karani Yogasan करने से वह भी ठीक होना पॉसिबल है।

जिस महिला को कंसीव करने में प्रॉब्लम होती है वह यह आसन कर सकती हैं।

महिलाओं को वाइट डिस्चार्ज होता है। इससे कमर दर्द भी हो सकता है ऐसे में आपको इससे बहुत मदद मिलेगी।

मेनोपॉज जो की 50 की उम्र तक होता है जिसमें पीरियड्स आने बंद हो जाते हैं। अगर यह कम उम्र में period बंद हो जाता है तो आपको Viparita Karani Yogasan से इस समस्या को दूर करने में मदद मिल सकती है।

इन्हें पढ़ें:

कमर दर्द में कौन सा आसन नहीं करना चाहिए? (Expert की मानें)

जानिए वज्रासन किसे नहीं करना चाहिए? इन गलतियों से होता है भयंकर नुकसान

पतंजलि के अनुसार ध्यान कैसे करें?

शिथिलीकरण के 5 फायदे जानेंगे तो रोज करेंगे इसे (सब कुछ पाने का राज़)

खाली पेट रस्सी कूदने के आश्चर्यजनक फायदे

Viparita Karani Yogasan करने का सही तरीका

Viparita Karani Yogasan को करने के लिए सबसे पहले आप जमीन पर लेट जाएं और अपने पैरों को दीवार के सहारे सीधा ऊपर की ओर रखें, पैरों को दीवार से चिपका लें, और ऊपर की ओर खींच कर रखें।

आपके पैर इस तरह सीधे हो की 90 डिग्री का angle बन जाए।

कमर को जमीन से चिपका कर रखें और सिर को नीचे रखें ऊपर की ओर देखें।

आपका body weight कमर पर आ जाएगा। शुरू शुरू में आपकी कमर में दर्द की शिकायत हो सकती है। इसमें कोई परेशानी वाली बात नहीं है यह आम बात है। ज्यादा परेशानी होती है तो कमर के नीचे कोई गद्दी रख लें।

उसके बाद आपको शव आसन में लेटे हुए प्राणायाम करना है। आप अपनी इच्छा के अनुसार कोई भी प्राणायाम कर सकते हैं। या फिर आंखें बंद करके धीरे-धीरे सांस को अंदर लें, और धीरे-धीरे उसे बाहर छोड़ें। केवल आसन करने से ही बीमारी खत्म नहीं होती बल्कि मन की शांति भी बहुत जरूरी है।

Viparita Karani Yogasan किसको करना चाहिए?

यह योगासन बहुत आसान होता है इसे बच्चे से लेकर बूढ़े तक कोई भी कर सकता है, विशेष बीमारी के लिए भी यह आसन किया जा सकता है क्योंकि यह कई तरह की बीमारी हो में कमी लाने के लिए कारगर माना जाता है। लेकिन कुछ खास बातों का ख्याल रखें।

विपरीत करणी का अभ्यास किसे नहीं करना चाहिए?

Viparita Karani Yogasan के लिए सावधानियां:

पीरियड के दौरान ना करें यह आसन: बेशक यह योगासन मेंस्ट्रूअल क्रेम्प्स में बहुत आराम पहुंचता है लेकिन इसको पीरियड्स के दौरान बिल्कुल नहीं करना चाहिए।

कमर दर्द से पीड़ित लोग इससे दूर रहें: अगर किसी को बैक पेन है और इस आसन को करते हुए उसे बहुत तकलीफ होती है तो Viparita Karani Yogasan को ना करें।

घुटनों में दर्द से ग्रसित लोगों को यह नहीं करना है: कुछ लोगों का मानना है कि घुटनों के दर्द में इस आसन को नहीं करना चाहिए, लेकिन ऐसा नहीं है।

आप घुटनों के दर्द में इस आसन को कम समय के लिए कर सकते हैं। इससे आपके घुटनों में दर्द कम हो जाएगा। अगर इस आसन को करते हुए आपको ज्यादा दर्द महसूस होता है तो डॉक्टर से पूछ लेना बेहतर होगा।

प्रेग्नेंट महिलाएं: प्रेगनेंसी के दौरान यह आसन करने की सलाह नहीं दी जाती, क्योंकि इस समय महिला बहुत नाजुक दूर से गुजरती है तो उसे अपना शरीर उल्टा करने से Complications हो सकते हैं।

क्या इस आसन को भोजन करने के बाद किया जा सकता है?

आप इस आसन को किसी भी समय कर सकते हैं लेकिन भोजन करने के तुरंत बाद इसको करना सही नहीं है। खाना खाने के कम से कम एक से दो घंटे बाद ही इस आसन को करना चाहिए।

Viparita Karani Yogasan से बाहर कैसे आए?

आपको कम से कम 1 से 2 मिनट के आसन में प्राणायाम करना है उसके बाद आपको धीरे-धीरे बैठ जाना है और थोड़ा आराम करना है उसके बाद फिर से इस आसन को दोहराना है और फिर से वापस आकर आराम करना है। इसको आप बार-बार कर सकते हैं।

आपको आराम इसलिए करना चाहिए क्योंकि ज्यादा समय तक इस आसन में रहने से आपके पैर सुन्न हो जाएंगे कमर में भी परेशानी हो सकती है।

घर के बुजुर्गों को यह योगासन जरूर ही करना चाहिए इससे उनकी रोजमर्रा की जिंदगी आसान हो जाएगी और घुटनों में दर्द, कमर दर्द, सिर दर्द और ब्लड प्रेशर जैसी परेशानियां कम हो जाएगी।

विपरीत करणी मुद्रा शरीर के किन अंगों के लिए राहत प्रदान करती है?

यह योगासन कुछ ही मिनट के लिए करने से पीठ के निचले हिस्से मैं होने वाली समस्याओं से राहत मिलती है यह महिलाओं के लिए बहुत ही अच्छा है क्योंकि उन्हें पीठ के निचले अक्सर दर्द की शिकायत होती है।

साथ ही जिन लोगों के टांगों में दर्द रहता है या कूल्हों में भारीपन व थकावट की भावना बनी रहती है उनके लिए भी यह आसन बेहतरीन है।

मानसिक तनाव को दूर करने सिर दर्द कम करने और ब्लड प्रेशर को बेहतर बनाने के लिए भी इस आसन को कामयाब माना गया है।

विपरीत करणी कब तक करना चाहिए?

इस आसन को हर रोज 5 से 20 मिनट तक किया जा सकता है उसके बाद दोबारा किसी अभ्यास को करें यानी एक समय पर दो बार यह योगासन करना चाहिए, आप शुरुआत में 5 मिनट में आरंभ करें उसके बाद अपना टाइम बढ़ा सकते हैं।

क्या विपरीत करणी हाई ब्लड प्रेशर के लिए अच्छी है?

हां, यह आसान हाई ब्लड प्रेशर के रोगियों के लिए भी अच्छा है जिन लोगों का ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है वह इस आसन को करके अपने रक्त प्रवाह को नियंत्रित कर सकते हैं।

अंतिम शब्द: योग गुरु बताते हैं कि Viparita Karani Yogasan इतना शक्तिशाली है अगर इसे कोई व्यक्ति रोजाना करें तो उसकी बीमारियां खुद-ब-खुद ठीक हो जाएंगी, साथ ही लगभग 13 से 14 तरह की बीमारी होने से बचाने में यह आसान प्रभावी है।

इसे बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक सबको रोजाना करना चाहिए ऐसा करने से इम्यूनिटी मजबूत होगी, बीमारियों से बचाव होगा और एक Healthy Lifestyle जीने में मदद मिलेगी।

Saniya Qureshi is a Health and Beauty writer, senior consultant and health educator with over 5 years of experience.

Leave a Reply