जानिए वज्रासन किसे नहीं करना चाहिए? इन गलतियों से होता है भयंकर नुकसान

वज्रासन को खाने के बाद करना लाभकारी माना जाता है क्योंकि भोजन करने के तुरंत बाद वज्रासन में कुछ समय बैठने से पाचन अच्छे से होता है और पाचन संबंधी कोई भी समस्या होने की संभावना नहीं रहती, साथ ही कब्ज नहीं होता, गैस बनने की प्रॉब्लम भी दूर रहती है।

जानिए वज्रासन किसे नहीं करना चाहिए? इन गलतियों से होता है भयंकर नुकसान
जानिए वज्रासन किसे नहीं करना चाहिए? इन गलतियों से होता है भयंकर नुकसान

लेकिन क्या वज्रासन करना सभी के लिए सही है? क्या सबको वज्रासन करना चाहिए? क्या भोजन पचाने के लिए वज्रासन के अलावा कोई और दूसरा ऑप्शन नहीं है? इन सभी सवालों पर आज हम बात करने वाले हैं।

हर किसी के लिए एक ही चीज लाभकारी नहीं होती। कुछ लोगों के लिए यह आसन करना सही नहीं माना जाता, तो किन लोगों को इस वज्रासन को नहीं करना चाहिए? इस बारे में बात करेंगे क्योंकि कुछ लोगों को वज्रासन करने से नुकसान हो सकते हैं। ‌

हर व्यक्ति की जरूरत अलग होती है हर व्यक्ति का शारीरिक ढांचा और स्वास्थ्य पर प्रभाव देने वाली चीज भी अलग होती हैं एक चीज सबके लिए अच्छी नहीं हो सकती।

तो जिनके लिए यह आसान अच्छा नहीं है, और उनके स्वास्थ्य के लिए वज्रासन की जगह दूसरा आसन करना बेहतर रहेगा। अगर वह लोग वज्रासन को जबरदस्ती करते हैं तो उन्हें फायदे की जगह बहुत सारे भयानक नुकसान झेलने पड़ सकते हैं।

वज्रासन किसे नहीं करना चाहिए:

वज्रासन कौन नहीं कर सकता है:

घुटने के दर्द से ग्रस्त लोगों को यह आसान नहीं करना चाहिए:

जिन लोगों को घुटनों में दर्द रहता है या घुटनों से संबंधित किसी तरह की प्रॉब्लम्स उन्हें बनी रहती हैं तो उनके लिए वज्रासन अच्छा नहीं है उन्हें यह आसन करने से नुकसान हो सकते हैं इसलिए ऐसे लोगों को जिन्हें घुटनों में दर्द की शिकायत रहती है वो लोग वज्रासन बिल्कुल न करें।

अगर आप इस आसन को घुटनों में प्रॉब्लम होने के बावजूद भी करेंगे, तो यह आपकी समस्या को बढ़ा देगा। इसे करने की वजह से घुटनों में हो रही है प्रॉब्लम काफी ज्यादा बढ़ सकती है और आपको पहले से ज्यादा दर्द होने लगेगा।

अब सवाल आता है कि अगर हम वज्रासन नहीं कर सकते हैं तो कौन सा आसन हमारे लिए सही रहेगा तो इस बारे में जानने के लिए पढ़ते रहिये, आगे आप पढ़ेंगे की आपको कौन सा आसान करना चाहिए।

जिन्हें वेरीकोज वेन की समस्या है उन्हें भी बचना चाहिए:

वेरीकोज वेन की समस्या का मतलब है कि आपके घुटनों के निचले हिस्स में (पिंडलियों में) अगर ब्लड फ्लो नहीं हो रहा है किसी वजह से नशे जाम हो गई है तो ऐसे में आपको वज्रासन बिल्कुल नहीं करना चाहिए, यह आपके लिए खतरनाक है।

जिनकी एड़ी में समस्याएं हैं:

जिन लोगों की एड़ी में किसी तरह की प्रॉब्लम है और इस कारण वह अपनी एड़ी को मोड नहीं पाते, उन्हें तकलीफ महसूस होती है तो ऐसे लोगों को भी वज्रासन करने से बचना चाहिए। उनके लिए यह बिल्कुल भी सही नहीं है अगर वह इसे करेंगे तो उनकी एड़ी में परेशानी बढ़ सकती है।

तो बिना वजह अपनी एड़ी पर जोर डालकर आपको वज्रासन नहीं करना है अगर आपको इसे करने से एड़ी में समस्या महसूस होती है या आपको तकलीफ बनी रहती है तो ऐसे में यह आपके लिए नुकसानदायक साबित होगा। इसलिए फायदे पाने के लालच में नुकसान न उठाएं।

जिन लोगों को एंकल में बहुत ज्यादा प्रॉब्लम नहीं है थोड़ी बहुत दिक्कतें होती हैं तो वह अपनी एड़ी के नीचे तकिया रखकर वज्रासन कर सकते हैं ऐसा करने से उन्हें एक कंफर्टेबल आसन बनाने में मदद मिलेगी।

Khush rehne ke liye kya kare | खुश कैसे रहें?

वज्रासन क्यों किया जाता है?

इस आसन को इसलिए किया जाता है क्योंकि भोजन करने के बाद आपका ब्लड फ्लो आंतों से लीवर की तरफ जाता है और जब आप चलते-फिरते हैं तो आपका रक्त टांगों में भी फ्लो करता है ऐसे में वज्रासन करने की वजह से टांगों में Blood flow तेजी से नहीं होता, रक्त पेट की तरफ ज्यादा फ्लो करता है जिससे पाचन अच्छे से हो पाता है।

वज्रासन करने का उद्देश्य यह होता है कि आपके घुटने और हिप एक लेवल में रहे, जिससे रीढ़ की हड्डी बिल्कुल सीधी रहेगी और अगर रीड की हड्डी सीधी रहेगी। तो पेट की मांसपेशियां सही से काम करेंगी और आपकी कमर झुकेगी नहीं इस वजह से पाचन अच्छे से बिना किसी समस्या के होगा।

तो वज्रासन को पाचन अच्छा बनाने के लिए नहीं, बल्कि रीड की हड्डी को बिल्कुल सीधा बनाए रखने के लिए रिकमेंड किया जाता है। अगर आप किसी भी आसान में अपने रीड की हड्डी को सीधी रखेंगे तो आपका पेट भी सीधा रहेगा और ऐसे में पाचन अच्छे से हो पाएगा।

जो लोग वज्रासन नहीं कर सकते उन्हें कौन से आसान करने चाहिए?

सुख आसन: जिन लोगों को वज्रासन करने में दिक्कतें आती हैं उनके लिए यह आसन फायदे की जगह नुकसान दे रहा है तो ऐसे में वह लोग सुख आसन कर सकते हैं भोजन के बाद आप वज्रासन की जगह सुख आसन करके अपने पाचन सिस्टम को मजबूत बना सकते हैं।

स्वस्तिक आसान: भोजन करने के बाद आप स्वस्तिक आसान भी कर सकते हैं इसमें आपके दोनों पैर जमीन पर बने रहते हैं और रीड की हड्डी सीधी रहती है जिससे पाचन तंत्र सही से काम करता है और आपका भोजन आसानी से पच जाता है।

Important Tip: भोजन करने के बाद आपको तीन प्राणायाम जरूर करने चाहिए। ऐसा करने से कब्ज की समस्या दूर होती है पेट से संबंधित किसी भी तरह की बीमारी ठीक हो जाती है और भोजन पचाने में आसानी रहती है।

तो दोस्तों आज की पोस्ट में हमने आपको बताया है कि वज्रासन किस नहीं करना चाहिए? इसके क्या नुकसान हो सकते हैं? और वज्रासन की जगह आपको कौन से आसान करने चाहिए? आशा करते हैं आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी, अगर आपको यह इससे संबंधित कोई भी सवाल है तो आप कमेंट में हमसे पूछ सकते हैं।

Saniya Qureshi is a Health and Beauty writer, senior consultant and health educator with over 5 years of experience.

Leave a Reply