Neuralink Chip इंसानी दिमाग में डालने के बाद Success Rate कितने हैं?

वैज्ञानिकों की माने तो उनका कहना है कि Neuralink chip के सक्सेस रेट की संभावना लगभग 87.1% है मतलब इतने परसेंट यह है successful होगी, ऐसा वैज्ञानिकों ने चूहों के मॉडल पर एक रोबोट के परीक्षण से अनुमान लगाया है।

Neuralink chip की success के कितने chance हैं?
Neuralink chip success rate

इसे रोबोट पर आजमाया गया है इसके अलावा फिर क्योंकि जानवरों पर परीक्षण करना मनुष्य के लिए काफी नहीं होता। इसीलिए इसका परीक्षण बंदरों पर किया गया क्योंकि बंदरों का शरीर और दिमाग काफी हद तक इंसान से मिलता है।

जिसमें पाया गया कि काफी हद तक यह चिप सफल रही और जिस तरह से एलॉन मस्क और उनकी टीम चाहती थी उसी तरह से यह काम कर रही है। हालांकि बंदरों पर इसका इस्तेमाल करने के बाद कई तरह के दुष्प्रभाव भी देखे गए, लेकिन उसके बावजूद इसे इंसानों के लिए भी आजमाया गया।

और फिर एक इंसान पर इसका trial किया गया उसके दिमाग में चिप डाली गई और उसके बाद देखा गया, कि इंसान कितना सही रहता है कहीं उसके शरीर में किस तरह की प्रॉब्लम तो नहीं होती। तो अभी तक सकारात्मक प्रभाव देखने को मिले हैं इंसान पर इसका ट्रायल सफल रहा, और वैज्ञानिकों को इस चिप के लिए सक्सेस मिली है।

इसी मनुष्य पर किए गए ट्रायल के आधार पर एलोन मस्क का कहना है कि अब 2024 में लगभग 11 लोगों के दिमाग में यह चिप डाली जा सकती है 2025 में 27 लोगों के दिमाग में इसे इंप्लीमेंट किया जा सकता है और उसके बाद इसकी दर बढ़ सकती है।

न्यूरालिंक का उपयोग सुरक्षित है?

इसे पूरी तरह से सुरक्षित नहीं माना जा सकता और ना ही वैज्ञानिकों द्वारा यह दावा किया गया है कि यह अच्छी पूरी तरह से सुरक्षित है हालांकि उन्होंने यह कहा है कि Neuralink chip उपयोग करना सफल है और इंसान के द्वारा भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

लेकिन उन्होंने कहीं भी यह नहीं कहा है कि यह इंसानों के लिए पूरी तरह से सुरक्षित हो सकता है बल्कि इस बात का अनुमान लगाया जा रहा है कि इस चिप का उपयोग करने से इंसान के दिमाग में कई तरह के नुकसान और दुष्प्रभाव देखने को मिल सकते हैं।

इंसानी दिमाग पर Neuralink Chip के क्या फायदे और नुकसान होंगे?

Khud ka khyal kaise rakhen (19 तरीके)

Neuralink किन बीमारियों का इलाज कर सकता है?

एलोन मस्क ने इस बात का जिक्र कई बार किया है कि Neuralink द्वारा कई तरह की बीमारियों का इलाज किया जा सकता है न्यूरालिंक एक कंपनी है जिसने Neuralink chip बनाई है वैज्ञानिकों द्वारा तरह-तरह की नई तकनीक के बारे में रिसर्च की जाती है।

न्यूरालिंक के हानिकारक प्रभाव क्या हैं?

सितंबर 20 की रिपोर्ट मे ए रिपोर्ट के अनुसार Neuralink chipका इस्तेमाल करने से कई तरह के दुष्प्रभाव देखे जा सकते हैं क्योंकि जिन में बंदरों पर इनका टेस्ट किया गया है उनमें बहुत गंभीर इन्फेक्शन, पैरालिसिस, ब्रेन स्वेलिंग और भी अन्य के तरह के साइड इफेक्ट देखे गए हैं।

क्या न्यूरालिंक याददाश्त में सुधार करता है?

हां, ऐसा कहा जा रहा है की Neuralink chip याददाश्त में सुधार करेगी क्योंकि इसे इंसानी दिमाग में डाला जाएगा तो इंसान अपने पहले की सारी बातें याद कर पाएगा, और जो चीज वह अपने आसपास देखेगा उन्हें समझ पाएगा।

साथ ही जितने भी इंसान इस चिप को अपने दिमाग में डालकर इस्तेमाल करेंगे वह एक दूसरे से connect रहेंगे। और एक दूसरे की मन की बात को जान सकेंगे। यानी यह चिप आपकी पर्सनल इनफॉरमेशन को नुकसान पहुंचाएगी और आपकी याददाश्त को बहुत हद तक अच्छा बनाएगी।

इसके माध्यम से आप अपने बीते कल और वर्तमान की बातों को तो बहुत अच्छे से याद रख ही सकते हैं साथ ही अपने future का अनुमान भी काफी आसानी से लगा सकेंगे।

Saniya Qureshi is a Health and Beauty writer, senior consultant and health educator with over 5 years of experience.

Leave a Reply