Hutchinson teeth in hindi : वह सब कुछ जो आपको जानना आवश्यक है

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) का रिपोर्ट कहती है कि वैश्विक स्तर पर, 2016 में जन्मजात सिफलिस के 661,000 मामलों सामने आए थे Hutchinson teeth के लिए जीवाणु ट्रेपोनेमा पैलिडम जिम्मेदार है, यह खतरनाक जीवाणु तब फैलता है जब कोई व्यक्ति किसी संक्रमित व्यक्ति के घावों के संपर्क में आ जाता है इसे बहुत ही आम यौन संचारित संक्रमण (std) माना जाता है यह गर्भ में या बच्चे के जन्म के दौरान नाल के माध्यम से मां से बच्चे तक पहुंच सकता है। 

Hutchinson teeth in hindi
Hutchinson teeth in hindi

अगर किसी को जन्मजात सिफलिस होता है तो लगभग 2 से 3 महीने तक बच्चों में किसी भी तरह का लक्षण दिखाई नहीं देता। इसलिए इसका इलाज कर पाना भी मुश्किल होता है hutchinson teeth मुख्य रूप से 2 से 5 साल के बच्चों में पूरी तरह से साफ दिखाई देता है।

इसका उपचार करने में स्क्रीनिंग परीक्षण मदद करते हैं। नहीं तो, देर करने से जन्मजात सिफलिस हो सकता है।

>>> IMC Pain Away Tablets इसके फायदे, नुकसान, उपयोग, खुराक, कीमत

महत्वपूर्ण बिंदु:

▶ जन्मजात सिफलिस, सिफलिस के नियंत्रण कार्यक्रम की सफलता को दर्शाता है।

▶ भविष्य में इस रोग से बचने के लिए और इस रोग के लक्षणों को पूरी तरह से खत्म करने के लिए जांच और उचित समय पर पेनिसिलिन उपचार लेना जरूरी है।

▶ हचिंसन ट्रायड जल्दी दिखाई नहीं देता यह सामान्यता 5 साल की उम्र में स्पष्ट समझ में आता है।

▶जन्मजात सिफलिस रोकना भी संभव है इसके लिए गर्भावस्था के दौरान कम से कम 2 बार सिफलिस के लिए सीरोलॉजिकल स्क्रीनिंग करानी चाहिए तथा गर्भधारण के तुरंत बाद और 28 सप्ताह के बाद भी।

हचिंसन के दांत क्या हैं?

hutchinson teeth एक असाधारण स्थिति है जो मुख्य रूप से जन्मजात से सिफलिस के शिकार बच्चों में पाई जाती है इस रोग में दांतों का आकार खूंटी जैसा नोकदार होता है जिसका कारण होता है दांत में इनेमल का पतलापन।

यह दांत व्यापक रूप से फैले हुए होते हैं तथा आमतौर पर बहुत छोटे छोटे होते हैं दातों में नोक बनी होती है काटने वाली सतह की चौड़ाई मसूड़ों के मार्जिन 1 से कम होती है।

इन दांतों में आपको काफी दूरी भी नजर आएगी इस तरह के दांत साफ जाहिर करते हैं कि बच्चा सिफलिस का शिकार है और उसे जल्द से जल्द सही इलाज की जरूरत है इसके इलाज में देरी नहीं करनी चाहिए।

क्योंकि हचिंसन दांतो का इनेमल कमजोर हो जाता है जिस कारण दांतों का रंग भी फीका पड़ जाता है दांत सामान्य रंग के दिखाई नहीं देते।

बल्कि पीले या हल्के रंग के नज़र आते हैं लेकिन ध्यान रखें इसका इलाज संभव है तो यदि आपको इसके किसी भी लक्षण के बारे में संदेह होता है तो तुरंत डॉक्टर से जांच कराएं और इसका इलाज शुरू करवाएं।

लेकिन यह भी ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि यह स्थिति स्थाई है इसका इलाज भले ही हो जाता है लेकिन भविष्य में लक्षण दोबारा नजर आ सकते हैं से यह‌ रोग दोबारा हो सकता है इसीलिए समय-समय पर जांच कराने की आवश्यकता होती है।

इसका नाम hutchinson teeth इसलिए है क्योंकि अंग्रेजी सर्जन/सिफिलोलॉजिस्ट (एक व्यक्ति जो सिफलिस के विशेषज्ञ है) जोनाथन हचिंसन, जिन्होंने इसका वर्णन किया था, का नाम भी “हचिंसन” था। उन्हीं के नाम पर इसका नाम रखा गया।

क्या सिफलिस के बिना हचिंसन के दांत हो सकते हैं?

नहीं, यदि किसी बच्चे को सिफलिस नहीं है तो उसे hutchinson teeth के लक्षण नजर नहीं आएंगे, हालांकि क्योंकि यह एक स्थाई समस्या है तो यह हो सकता है जल्दी लक्षण ना दिखाएं किसी किसी को थोड़े समय के बाद इसके लक्षण नजर आते हैं।

2013 में बाल रोग विशेषज्ञ के सलाहकार के पास एक केस आया जिसमें 3 साल की लड़की को उसके पर्णपाती दांतों पर कुछ हचिंसन दातों जैसे लक्षण नजर आए हालांकि यह सिफलिस का परिणाम नहीं थे।

दरअसल, बच्चे को डेंटल डिसप्लेसिया (एक आनुवंशिक समस्या जिसमें दांतों का असामान्य विकास होता है) था। इस मामले में भी, बच्चे के दांत स्थाई रूप से छोटे और खराब दिखते हैं।

Related posts

hutchinson teeth का क्या कारण है?

जैसा कि हमने आपको ऊपर भी बताया है कि इसका मुख्य कारण सिफलिस होता है जो एक जन्मजात बीमारी है यह गर्भावस्था के दौरान या बच्चे के जन्म के समय मां की गर्भनाल से बच्चे तक पहुंच सकता है।

अगर मां को सिफलिस है तो बच्चों को भी सिफलिस होना सामान्यता संभव है।

कुछ महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान सिफलिस हो जाता है ऐसे में यह बच्चों को भी संभाव्यता हो जाता है और इसके कारण बच्चों की मृत्यु भी हो सकती है।

जन्मजात सिफलिस के लक्षण क्या हैं?

जन्मजात सिफलिस के विभिन्न लक्षण होते हैं। प्रारंभिक अवस्था में, नवजात शिशु को हो सकता है:

  • बुखार
  • हाथों और पैरों पर चकत्ते पड़ना
  • खून की कमी
  • पीलिया
  • बढ़े हुए जिगर और प्लीहा
  • जन्म के समय कम वजन
  • सूजन
  • तंत्रिका संबंधी समस्याएं

हो सकता है कि जन्म के समय शिशु में सिफलिस के कोई भी लक्षण दिखाई ना दे क्योंकि आमतौर पर 2 से 3 महीने बाद ही इसके लक्षण प्रकट होते हैं अगर देर से बच्चों में सिफलिस के लक्षण दिखाई देते हैं तो इस प्रकार हो सकते हैं –

• दांत नोकदार और खूंटेदार दिखाई देते हैं।

• कॉर्निया की सूजन भी इसका एक लक्षण है यह अंधेपन का कारण भी बन सकता है।

• आंखों में ज्यादा लाली रहना।

• हड्डी की विकृति।

• आठवीं तंत्रिका बहरापन जो आमतौर पर आज के 10 साल के बच्चों में नजर आता है

• मानसिक मंदता।

>>> PATANJALI Medohar Vati पतले होने की दवाई | बिना एक्सरसाइज के 1 महीने में 4 किलो वजन कम करें?

Hutchinson teeth का इलाज कैसे करें?

क्योंकि Hutchinson teeth के लिए इलाज संभव है तो आप इलाज के माध्यम से इस रोग से निजात पा सकते हैं हालांकि यह भविष्य में भी दोबारा हो सकता है ऐसी संभावना रहती है लेकिन यदि आप नियमित रूप से जांच कराते रहें, तो आप इस रोग से बचे रह सकते हैं।

सबसे पहले तो आपको यह समझने की जरूरत है कि यदि आपको सिफलिस के लक्षण दिखाई देते हैं तो आपको जीवाणु संक्रमण का इलाज कराना सबसे जरूरी है।

क्योंकि यह संक्रमण ही इसका सबसे बड़ा कारण होता है इसके इलाज के लिए आपको एक बाल रोग विशेषज्ञ से परामर्श लेनी चाहिए तथा इलाज शुरू कर देना चाहिए।

इसके उपचार में पेनिसिलिन शामिल होता है। हचिंसन ट्रायड के कुछ लक्षणों के उपचार के लिए कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स की आवश्यकता हो सकती है।

लेकिन दांतो के आकार और स्वरूप में बदलाव नहीं किया जा सकता यह है क्योंकि यह जन्मजात रोग होता है तो दांतों की काया में बदलाव करना संभव नहीं होता। यह आपके लिए चिंता का विषय हो सकता है।

Hutchinson teeth के लिए महत्वपूर्ण इलाज

डेंटल क्राउन और ब्रिज

इस उपचार में आपके मौजूदा दांतो को काटकर छोटा किया जाता है उसके बाद उन पर टोपी लगाई जाती है जिससे दांत अच्छी तरह से ढक जाते हैं और दांतों में ज्यादा अच्छा काम करने की क्षमता भी आती है आप भोजन ज्यादा अच्छे तरीके से चबा सकते हैं।

यदि बच्चे के दातों में ज्यादा क्षति हो तो यह इलाज काफी काम आ सकता है क्योंकि यह इलाज उसे क्षमता और दांतों का सही आकार प्रदान करने में मदद करता है।

दांतों की फिलिंग

हचिंसन दांतों में कैविटी होने की संभावना भी रहती है तो इस समस्या का उपचार करने में फिलिंग एक अच्छा विकल्प है।

तो दांतों की उपस्थिति में सुधार करने के लिए फिलिंग का सहारा लिया जा सकता है ।

चिकित्सकीय veneer

यदि बच्चों का इनेमल कुछ हद तक अच्छी स्थिति में है तो वह अपने दांत के लिए कवर ले सकते हैं। इसके अलावा बच्चों के दांतो का आकार भी कुछ हद तक सही होना चाहिए तभी veneer लगाया जा सकता है।

दंत्य प्रतिस्थापन

यह इलाज करवाना शुरुआती लक्षणों के दिखने पर संभव नहीं है क्योंकि लड़कियों 16 साल की उम्र तक और लड़कों में 18 साल की उम्र तक जबड़े का विकास होता है।

तो इस उम्र तक आपको इंतजार करना पड़ेगा उसके बाद आप जबड़े की हड्डी में दंत प्रत्यारोपण लगवा सकते हैं और उस पर क्राउन या ब्रिज लगवा सकते हैं।

>>> U.S FDA approved नई दवा Veozah रजोनिवृत्ति के लक्षण Hot flashes के लिए

हचिंसन दांत की देखभाल कैसे करें?

अगर आपको hutchinson teeth की समस्या है तो आपको उसी तरह से अपने दांतों की देखभाल करने चाहे जिस तरह से सामान्य व्यक्ति अपने दांतों की देखभाल करता है।

• यानी आपको दिन में कम से कम 2 बार अपने दांतों को ब्रश करना चाहिए।

• टूथब्रश चुनते हुए भी ध्यान रखना चाहिए कि वह अच्छी क्वालिटी का हो उसके ब्रुसेल्स मुड़े हुए ना हो।

• हर 3 महीने में आपको अपना Toothbrush चेंज करते रहना चाहिए।

• इसके अलावा एक एंटीबैक्टीरियल माउथवॉश का भी उपयोग करना चाहिए जिससे पूरे मुंह की सफाई आसानी से हो जाती है।

• मीठा ज्यादा खाने से बचें क्योंकि ज्यादा मीठा खाने से दांतों में कैविटी होने की संभावना रहती है और इस समस्या में यह संभावना और बढ़ जाती है।

• हर 3 से 6 महीने में दातों की जांच करवाते रहना चाहिए।

>>> Colgate Visible White O2 Teeth Whitening Toothpaste

क्या hutchinson teeth को रोकने का कोई तरीका है?

क्योंकि सिफलिस जन्मजात होने वाली बीमारी है तो यह साफ है कि यदि मां को सिफलिस होगी तो बच्चों को भी यह समस्या होने का बहुत ज्यादा चांस है।

लेकिन यदि मां इसका इलाज करा लेती है लगभग गर्भावस्था से 3-4 महीने बाद यदि कोई महिला अपना इलाज करा कर सिफलिस को खत्म कर देती है।

तो इस बच्चे रोग से बच सकते हैं। ऐसे में यह संभव है कि बच्चा बिल्कुल भी संक्रमित न हो।

1963 में एक सहकर्मी-समीक्षा पत्रिका, एक्टा डर्मेटो-वेनेरोलॉजिका में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया कि जिन महिलाओं ने गर्भावस्था के दूसरे भाग में या जन्म के 3 महीने बाद सिफलिस का इलाज करवाया था, उनके बच्चों के दांतों में कोई असामान्यता विकसित नहीं हुई। शीघ्र उपचार से बच्चों में hutchinson teeth और जन्मजात सिफलिस के अन्य लक्षणों की रोकथाम की जा सकती है।

Saniya Qureshi is a Health and Beauty writer, senior consultant and health educator with over 5 years of experience.

Leave a Reply