खाने के तुरंत बाद टहलना होता है बेहद ख़तरनाक जाने क्यों? (वैज्ञानिक तर्क से समझे?)

आपने भी सुना होगा, बचपन से ही सभी कहते आ रहे है कि खाने के बाद टहलना चाहिए और खाने के बाद टहलना बहुत अच्छा होता है ऐसा करने से शरीर में कोई बीमारी नहीं होती और व्यक्ति हमेशा स्वस्थ रह सकता है।

खाने के तुरंत बाद टहलना होता है  ख़तरनाक
खाने के तुरंत बाद टहलना होता है ख़तरनाक

आपके मन में भी यह उलझन होगी कि आज तक तो हमें यही कहा गया है कि खाने के बाद कुछ देर जरूर चलना चाहिए लेकिन ऐसा करना गलत है क्यों? तो आज हम यही जानेंगे कि हमें क्यों नहीं चलना चाहिए? और किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, साथ ही यह भी बात करेंगे भोजन के बाद कब टहलना सही है? इसके पीछे के विज्ञान को भी समझेंगे!

खाने के तुरंत बाद टहलना होता है बेहद ख़तरनाक

खाने के तुरंत बाद क्यों नहीं टहलना चाहिए इसके लिए सबसे पहले हमें physiological systems को समझाना पड़ेगा। देखिए शरीर में जब भी कोई अंग सक्रिय होता है तो उसे ऊर्जा की जरूरत होती है और ऊर्जा का सबसे अच्छा स्रोत होता है ऑक्सीजन, ऑक्सीजन ब्लड के माध्यम से हमारे शरीर को मिलता है।

तो जब कोई अंग active होता है तो उस वक्त उस अंग को ब्लड की ज्यादा जरूरत होती है वहां पर बलड होगा तभी वह अंग ज्यादा बेहतर तरीके से अपना काम कर पाएगा।

इसका मतलब है कि खाना खाने के बाद सबसे ज्यादा जो खून की जरूरत होती है वह होती है पेट को। लेकिन अगर खाना खाने के तुरंत बाद आप टहलने जाते हैं तो आपका जो ब्लड है वह पैरों की तरफ चल जाएगा क्योंकि उसे वक्त पर ज्यादा सक्रिय हैं पर चल रहे हैं उनको ऊर्जा की जरूरत है।

तो जिस अंग को ऊर्जा की ज्यादा जरूरत होगी आपका रक्त उसे अंग के पास ज्यादा जाएगा और क्योंकि गुरुत्वाकर्षण बल भी काम करता है इसीलिए रक्त नीचे की ओर जाएगा और पैरों में काम करेगा।

लेकिन क्योंकि हमने भोजन किया है तो हमें भोजन को पचाना है इसलिए हमारा सबसे ज्यादा सक्रिय अंग पेट होना चाहिए और ब्लड पेट के पास रहना चाहिए, तो ऐसे में चलना खतरनाक है चलना नहीं चाहिए वरना खाना पचने में बहुत ज्यादा समय लगेगा।

इसे भी पढ़ें: Sadguru से जानिए रात को भूखा सोने के फायदे, सिर्फ 6 हफ्ते खाली पेट सोने जाए होगा चमत्कार

खाना खाने के तुरंत बाद आपको वज्रासन में कुछ समय के लिए बैठना चाहिए। अगर आप वज्रासन में नहीं बैठ सकते, आपको किसी तरह की तकलीफ है जिस वजह से आप वज्रासन में बैठने में असमर्थ हैं, तो आप सुखासन में कुछ समय के लिए बैठ सकते हैं इससे खाना काफी आसानी से और अच्छे से पच सकता है।

लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आपको टहलने की बिल्कुल जरूरत नहीं है आप खाना खाने के तुरंत बाद नहीं टहलना है लेकिन खाना खाने की 1 घंटे बाद आप टहल सकते हैं इसका मतलब है कि आपको खाना खाने के तुरंत बाद वज्रासन आसन या सुखासन करना है उसके 1 घंटे बाद आप टहलने जाएं।

इस समय तक खाना काफी हद तक पच जाता है पेट से छोटी आंत तक पहुंच जाता है तो अब आपके पेट को बहुत ज्यादा ब्लड की जरूरत नहीं होगी, ऐसे में अगर आप थोड़ा चलेंगे तो खाना पचना काफी आसान हो जाएगा और आपको बहुत सारे फायदे भी मिलेंगे।

दरअसल जब खाना छोटी आंत में चला जाता है तो इस वक्त पेट में गैस बनने की प्रक्रिया शुरू हो जाती है क्योंकि खाना जैसे-जैसे पचता है शरीर में गैस भी बनता है तो जब छोटी आंत में भोजन होता है तो गैस बनने की प्रक्रिया शुरू हो जाती है।

ऐसे में अगर आप कुछ समय के लिए टहलेंगे तो आपका शरीर इस गैस को adjust कर लेगा, जिससे भोजन का पाचन पूरी तरह से और बिना समस्या के हो जाएगा। साथ ही आपको नींद भी अच्छी आएगी, क्योंकि पेट में बनी गैस नींद आने में बाधा बनती है तो जब आप कुछ समय के लिए चलेंगे आपकी गैस एडजस्ट हो जाएगी जिससे नींद बेहतर आएगी।

खाना खाने के तुरंत बाद वज्रासन में बैठने से क्या फायदे होते हैं?

अगर आप भोजन करने के तुरंत बाद वज्रासन में बैठेंगे तो आपका जो भी ब्लड सर्कुलेशन होगा वह पेट की तरफ आएगा, क्योंकि पैर मुड़ जाएंगे और पैरों की तरफ ब्लड का सरकुलेशन बहुत कम हो जाएगा। और पूरा फॉक्स पेट की तरफ रहेगा जिससे पेट की कोशिकाएं अच्छी तरह से कम कर पाएंगी।

साथ ही वज्रासन में जब आप बैठे होते हैं तो आपकी कमर सीधी होती है इससे व्यक्ति का फोकस बढ़ता है दिमागी क्षमता बेहतर होती है और रीड की हड्डी से संबंधित समस्याओं में लाभ मिलता है।

जब वज्रासन में बैठा जाता है, तो कमर सीधी होने के कारण व्यक्ति फोकस करने में ज्यादा समर्थ रहता है और इसी वजह से वह अपनी सांसों पर ध्यान लगा सकता है। जिससे उसे मेडिटेशन के फायदे प्राप्त हो सकते हैं यानी यह ध्यान विधि की तरह भी लाभकारी आसान है।

Saniya Qureshi is a Health and Beauty writer, senior consultant and health educator with over 5 years of experience.

Leave a Reply