Yoga and meditation difference in hindi | योग’ और ‘मेडिटेशन’ के बीच क्या अंतर है?

नमस्ते, खुलकरजियो पर आपका स्वागत है Yoga and meditation दोनों ही पुरानी और प्राचीन प्रथाएं हैं इन दोनों ही विधियों का जन्म भारत में ही हुआ है यह दोनों बहुत लाभकारी होते हैं इन्हें करने से मन शांत रहता है और शरीर स्वस्थ।

Yoga and meditation difference in hindi
Yoga and meditation difference in hindi

हालांकि कुछ मायनों में Yoga and meditation इन दोनों मैं काफी अंतर पाया जाता है तो यहां हम आपको योग और ध्यान के बीच कुछ मुख्य अंतर बताने जा रहे हैं।

Yoga and meditation difference – योग’ और ‘मेडिटेशन’ के बीच क्या अंतर है?

1) योग शारीरिक व मानसिक अभ्यास के लिए महत्वपूर्ण होता है जबकि ध्यान केवल मानसिक अभ्यास होता है हालांकि इससे मिलने वाले लाभ शरीर को भी प्राप्त होते हैं।

2) योग करने के लिए विभिन्न आसन और व्यायाम पोजीशन शामिल होते हैं इसमें पूरे शरीर में गति होती है जबकि ध्यान एक जगह पर बैठकर मन में ध्यान केंद्रित करके किया जाता है।

3) योग के‌ रूपों में विविधता होती है, जैसे हठ, विन्यास, बिक्रम, आदि, जबकि ध्यान के दो मुख्य प्रकार हैं: एकाग्रता और ध्यान।

4) योग विशेष रूप से कठिन प्रतीत होते हैं क्योंकि योग करने के लिए कठिन आसन और जटिल शारीरिक गतिविधियां करनी पड़ती है जबकि मेडिटेशन मानसिक स्थिरता प्रदान करता है।

5) योग मन, आत्मा और शरीर को फायदा पहुंचाता है जबकि ध्यान आपकी जागरूकता बढ़ाता है।

6) योग विधि में ध्यान को जोड़ा जा सकता है लेकिन ध्यान में योग को शामिल नहीं किया जा सकता।

7) अधिकतर लोग ध्यान करने से पहले मानसिक शांति के लिए योग करना बेहतर मानते हैं।

योग हो या मेडिटेशन आपको आंतरिक शांति और मन की स्थिरता प्रदान करते हैं। तो Yoga and meditation करने की आदत बताएं खुशहाल जीवन यापन करें।

मैं योग या ध्यान के लिए practice कैसे शुरू कर सकता हूँ?

यह बहुत बढ़िया सवाल है योग और ध्यान दोनों ही बहुत अद्भुत होते हैं यह आपको सेहत और खुशी प्रदान करने में बहुत कारगर होते हैं योग और ध्यान का अभ्यास करने के लिए आप निम्नलिखित बताई गई बातों का पालन कर सकते हैं –

1. सांस लेना सीखें :

योग और ध्यान में सबसे ज्यादा जरूरी काम सांस लेना होता है जब आप योगा करते हैं या फिर ध्यान करते हैं उस वक्त सांसो पर ध्यान केंद्रित करने से मन शांत हो जाता है।

yoga and meditation को सीखने व बेहतर तरीके से करने के लिए एक बुनियादी और प्रसिद्ध तरीका है प्राणायाम।

प्राणायाम करके आप सांसो पर बेहतर तरीके से ध्यान केंद्रित कर सकते हैं व Yoga and meditation को करने के लिए यह प्रैक्टिस बहुत जरूरी है।

योग मेडिटेशन करने के लिए आपको शुरुआती रूप से इरादा करने की आवश्यकता है सबसे पहले आपको निम्न विधि को अपनानी चाहिए।

विधि – कुछ मिनटों के लिए जमीन पर बैठ जाइए और अपने मन पर ध्यान ले जाए सांसों को महसूस करें इसके अलावा आप प्रार्थना भी कर सकते हैं।

2. सरल और आसान आसन या पोज :

योग करने के लिए आपको कुछ बुनियादी और शुरुआती स्तर की मुद्राओं की तकनीक सीखनी चाहिए।

योग की शुरुआत करने के लिए आपको सरल और आसान आसन या पोज इस्तेमाल करने चाहिए, जैसे कोबरा पोज, बच्चे का पोज, नीचे झुकने वाले पोज़ इत्यादि।

3. Gratitude – आभार प्रकट करें:

Yoga and meditation को समाप्त करने के लिए हमेशा कृतज्ञता या धन्यवाद का प्रयोग करना चाहिए।

योगा मेडिटेशन करने के बाद आपको कुछ देर के लिए आराम करने की आवश्यकता होती है ताकि आपका शरीर रिलैक्स कर सके।

GELRIDE फ़ोल्ड करने योग्य ध्यान और योग चेयर (कुर्सी) – Buy from Amazon

योग या ध्यान अभ्यास शुरू करने के लिए, आप यह भी कर सकते हैं:

1. ऐसा समय और स्थान का चुनाव करें जो आपके लिए सही हो कुछ लोग सुबह उठते ही Yoga and meditation करना पसंद करते हैं तो कुछ लोग सुबह योगा मेडिटेशन करने के लिए आलस करते हैं।

सुबह का टाइम बहुत अच्छा होता है जिसमें योगा मेडिटेशन करना लाभकारी माना जाता है।

लेकिन इसके अलावा दिन का कोई भी टाइम जो आपके लिए बेहतर हो निर्धारित कर सकते हैं जो आपके लिए आरामदायक रहे साथ ही ऐसे स्थान का चुनाव करें जहां पर शांति और स्वच्छता रहती हो।

2. Yoga and meditation को सीखने के लिए आप किसी वीडियो का सहारा ले सकते हैं साथ ही आप ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर भी इन्हें सीखने के लिए कक्षा में शामिल हो सकते हैं।

इसके अलावा आप अपने आसपास किसी ट्रेनर से भी यह दोनों विधि सीख सकते हैं आप इन्हें सीखने के लिए और भी कई विकल्प अपना सकते हैं।

3. यदि आप योगा या ध्यान सीखना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले यह समझना होगा, कि आपको ध्यान करने के लिए किसी प्रतिस्पर्धा के बारे में नहीं सोचना है यानी अपनी क्षमता के अनुसार टाइम और पॉज निर्धारित करें।

यदि आप ध्यान करते समय या योगा करते समय भटक जाते हैं या आप से नहीं हो पाता, तो आपको घबराने की जरूरत नहीं है प्रैक्टिस करते रहिए अपना सर्वश्रेष्ठ देते रहें, भविष्य में आप इसे बेहतर तरीके से कर पाएंगे।

योग या ध्यान के कुछ लाभ क्या हैं?

योग और ध्यान के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए कई लाभ हैं। यहां योग और ध्यान के कुछ लाभ दिए गए हैं:

  • योग और ध्यान करने से समग्र स्वास्थ्य का कल्याण होता है यह तनाव होने के कारणों को कम करते हैं।
  • Yoga and meditation करने से पेट व पीठ दर्द में सुधार होता है और यह संधिशोथ में मदद करते हैं।
  • चक्कर आना व हैंगओवर को यह दोनों ही विधियां ठीक करती है और पाचन में भी सुधार करती है।
  • यह हृदय की हेल्थ में सुधार करते हैं और अस्थमा को ठीक करने में मदद करते हैं।
  • इन्हें करने से आपको बेहतर नींद लेने और आपके मूड को बेहतर बनाने में मदद मिलती है।
  • ध्यान और मेडिटेशन सीखने, स्मृति, ध्यान और निर्णय लेने जैसे संज्ञानात्मक कौशल में सुधार करते हैं।
  • इनके अभ्यास से मस्तिष्क की शक्ति बढ़ती हैं और यह मस्तिष्क की कार्यक्षमता में उम्र से संबंधित गिरावट को रोकते हैं।
  • यह शारीरिक सूजन को कम करते हैं और पुरानी बीमारियों के खतरे को कम करते हैं।
  • Yoga and meditation जीएबीए के स्तर को बढ़ाते हैं, जो एक मस्तिष्क रसायन है जो चिंता और अवसाद को कम करता है।
  • इनसे भावनात्मक विनियमन को बढ़ावा मिलता है और भावनात्मक प्रतिक्रिया को कम करते हैं।

योग या ध्यान के कुछ दुष्प्रभाव क्या हैं?

योग और ध्यान सामान्यता दोनों ही सुरक्षित और लाभकारी माने जाते हैं लेकिन कुछ लोगों को इनकी वजह से दुष्प्रभाव और जोखिमों का सामना करना पड़ता है यहां आपको योग्य ध्यान करने से संभावित नुकसान के बारे में बताया जा रहा है।

  • शारीरिक जोड़ों और मांसपेशियों में दर्द की शिकायत रहना।
  • योग करने की वजह से मांसपेशियों में चोट और स्नायुबंधन का टूटना जैसी समस्या हो सकती है।
  • इन्हें करने से सिर दर्द और थकान महसूस हो सकती है।
  • पीठ दर्द और स्लिप्ड डिस्क की दिक्कत।
  • इनसे गर्दन और कलाई में दर्द हो सकता है।
  • उच्च रक्तचाप और मोतियाबिंद का बढ़ना।
  • अवसाद और घबराहट की संभावना।
  • चक्कर आना और लू लगना।
  • ध्यान करते वक्त पुरानी बातें याद आना।
  • सामाजिक रिश्तों, स्वयं की भावना और शारीरिक स्वास्थ्य का ख़राब होना।
  • गतिविधियों में प्रेरणा और रुचि की हानि।
  • मतिभ्रम और परिवर्तित धारणा।

आमतौर पर इस तरह के दुष्प्रभाव नहीं होती यदि आप योग और ध्यान प्रशिक्षक करते हैं तकनीक अभ्यास करते हैं।

यह साइट इफेक्ट्स होते हैं जब व्यक्ति की पहले से कोई चिकित्सीय या मानसिक स्थिति हो, या जब व्यक्ति अभ्यास से उत्पन्न होने वाले मनोवैज्ञानिक परिवर्तनों के लिए तैयार न हो।

>> शारीरिक जोड़ो मांसपेशियों और हड्डियों में रहता है दर्द तो यह आयुर्वेदिक दवाई आपके लिए है जरूर ट्राई करें ‌।

इन दुष्प्रभावों को रोकने या कम करने के लिए, यह सलाह दी जाती है:

  • योग या ध्यान शुरू करने से पहले डॉक्टर से परामर्श लें, खासकर यदि आपको कोई स्वास्थ्य संबंधी समस्या या चिंता है
  • योग meditation करने के लिए अनुभवी प्रशिक्षक चुनें जो आपका सुरक्षित और उचित मार्गदर्शन कर सके।
  • शुरू करने के लिए हमेशा शुरुआती आसन और अभ्यास का प्रयोग करना चाहिए अपनी क्षमता और सुविधा के अनुसार धीरे-धीरे आगे बढ़े।
  • हमेशा अपने शरीर की सुनें और अपनी सीमाओं से बाहर न जाएं। अपने आप को ऐसी मुद्राओं या तकनीकों को करने के लिए मज़बूर न करें जिनसे दर्द या परेशानी हो।
  • अभ्यास के दौरान और बाद में ब्रेक लें और खुद को हाइड्रेट करें।
  • यदि आप किसी गंभीर या लगातार दुष्प्रभाव का अनुभव करते हैं तो पेशेवर मदद लें।

Yoga and meditation दोनों ही बहुत लाभकारी अभ्यास हैं इनको करने से शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य पर सकारात्मक असर पड़ता है।

नियमित रूप से योगा और मेडिटेशन करने से जीवन बेहतर बनता है आप खुद के विचारों पर कंट्रोल कर सकते हैं और अपने रिलेशनशिप को बेहतर बना सकते हैं जीवन में अधिक सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

ऐसे ही अद्भुत और अविश्वसनीय फायदे प्राप्त करने के लिए रोजाना योगा और मेडिटेशन करने के लिए आदत बनाएं।

योग और ध्यान दोनों अद्भुत अभ्यास हैं जो आपकी भलाई और खुशी को बढ़ा सकते हैं, लेकिन उन्हें सावधानी और जागरूकता की भी आवश्यकता होती है। मुझे आशा है कि इससे आपको कुछ संभावित पक्षों को समझने में मदद मिलेगी।

Saniya Qureshi is a Health and Beauty writer, senior consultant and health educator with over 5 years of experience.

Leave a Reply