Sweet potato in hindi | शकरकंद खाने से बनती है सेहत? जानिए यह गजब के स्वास्थ्य लाभ

शकरकंदी सर्दियों के दिनों में आती है इसका स्वाद मीठा होता है और यह स्वास्थ्य के लिए लाभकारी भी है कोई उबालकर तो कोई शकरकंद को भून कर खाना पसंद करता हैं।

शकरकंद जिसे इंग्लिश में Sweet potato के नाम से जाना जाता है एक जड़ वाली सब्जी है यह एक ऐसा सुपरफूड है जो यदि आप अपनी डाइट में शामिल करेंगे।

A beautiful woman showing benefits of sweet potato
Sweet potato in hindi

तो यह आपके स्वाद को तो सुधारने में मदद करती ही है साथ ही स्वास्थ्य को भी फायदे देती है हालांकि इसके सेवन से आपको कुछ नुकसान का सामना भी करना पड़ सकता है।

अगर आप शकरकंद का सेवन करते हैं तो आपको कौन से फायदे होंगे तथा किस तरह के नुकसान देखने को मिल सकते हैं।

जरूर पढ़ें – हमें चीनी क्यों नहीं खानी चाहिए और चीनी के बजाय अन्य क्या तरीके हैं मीठा खाने के।

साथ ही शकरकंद से जुड़े अन्य सवालों पर भी हम इस आर्टिकल में गौर करेंगे चलिए जानते हैं sweet potato के बारे में।

Table of Contents

शकरकंदी (Sweet Potato) क्या है?

शकरकंदी एक आलू जैसी सब्जी है जो स्वाद मैं मीठी होती है और इसका रंग हल्का लाल होता है यह सर्दियों के मौसम में आने वाला फूड है।

शकरकंदी में कौन-कौन से पोषक तत्व होते हैं।

शकरकंदी बहुत सारे पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थ है इसे कंप्लीट फूड के रूप में भी जाना जाता है।

शकरकंदी के कुछ मुख्य पोषक तत्व निम्नलिखित हैं:

कैलोरी: 112, फैट: 0.07 ग्राम, कार्बोहाइड्रेट: 26 ग्राम, प्रोटीन: 2 ग्राम, फाइबर: 3.9 ग्राम, विटामिन्स: ए, बी, सी डी, कैल्शियम, मैग्नीशियम, आयरन, फास्फोरस, सेचुरेटिड फैट: 0, सोडियम 55 mg.

आलू और शकरकंद में क्या अंतर है?

आलू और शकरकंद में फर्क जान लेते हैं तो आलू जो सब्जी बनाने में हम आमतौर पर यूज करते हैं उनके ऊपर का छिलका हल्का ब्राउन होता है।

और यह स्वाद में फीके होते हैं तथा इनमें भी sweet potatoकी तरह स्टार्च पाया जाता है जो मोटापे का कारण बनता है।

शकरकंदी का रंग हल्का लाल होता है और यह अंदर से हल्के पीले कलर की होती हैं तथा इसका स्वाद मीठा और स्वादिष्ट लगता है।

लेकिन आलू और शकरकंद दोनों वसा, प्रोटीन, कैलोरी जैसे पोषक तत्वों के लिए एक समान प्रभावकारी होते हैं।

डाइट में शकरकंद कैसे खाएं?

यह आपके ऊपर निर्भर करता है कि आप शकरकंदी को किस उद्देश्य से खा रहे हैं उसी के अनुसार आपको इसकी मात्रा और उपयोग का तरीका तय करना होगा।

अगर आप मोटापा कम करने के लिए Sweet potato खाना चाहते हैं तो बहुत कम मात्रा में खाना चाहिए इसमें किसी और अन्य पदार्थ को ना मिलाएं।

अगर आप वेट गेन के लिए शकरकंदी खाना चाहते हैं तो आपको उसी के अनुसार इस की ज्यादा मात्रा खाने के लिए तय करनी होगी।

लेकिन अगर आप केवल स्वाद के लिए शकरकंदी का उपयोग करना चाहते हैं तो इसे हफ्ते में केवल एक से दो बार ही खाएं।

क्योंकि इसमें स्वास्थ्य को लाभ प्रदान करने की क्षमता तो होती है लेकिन इसका ज्यादा सेवन स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक हो सकता है।

अगर टाइम की बात करें तो शकरकंदी को नाश्ते में खाना ज्यादा अच्छा रहता है इसके अलावा आप इसे शाम को स्नैक्स के रूप में खा सकते हैं।

शकरकंद खाने से क्या लाभ है – Sweet potato Benefits in Hindi

शकरकंदी के बहुत सारे फायदे होते हैं जो तभी मिलेंगे यदि आप इसको सही मात्रा और उचित तरीके से उपयोग करें।

A girl showing taste of sweet potato
Sweet potato in hindi

तो चलिए इसके कुछ फायदों के बारे में बात करते हैं:

#1. पाचन क्षमता को सुधारने में प्रभावी।

शकरकंदी का सेवन पाचन क्षमता को स्वस्थ बनाने में काफी मदद करता है क्योंकि इसमें बहुत से ऐसे पोषक तत्व है जो पाचन क्रिया को बेहतर तरीके से काम करने में मदद करते हैं।

2. आंखों के लिए अच्छी है।

शकरकंदी के खाने से आंखों के स्वास्थ्य पर अच्छा प्रभाव पड़ता है क्योंकि इसमें विटामिन ए विटामिन सी फास्फोरस आयरन जिंक जैसे पोषक तत्व हैं।

जो आंखों की रोशनी को बढ़ाने तथा आंखों से संबंधित समस्याओं को दूर करने में मदद करते हैं।

3. खून की कमी नहीं होती।

शकरकंदी में विटामिन ए विटामिन सी और आयरन होता है जो खून की कमी को पूरा करने में मदद करते हैं।

4. दिल के लिए स्वास्थ्यवर्धक है।

Sweet potato खाने से हृदय संबंधी बीमारियां होने का जोखिम कम हो जाता है क्योंकि यह दिल के स्वास्थ्य को बेहतर बनाती है।

5. कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करती है।

शकरकंदी का उपयोग कोलेस्ट्रोल की मात्रा को नियंत्रित करने में काफी मदद कर सकता है।

हालांकि इसमें कार्बोहाइड्रेट और शुगर की मात्रा होती है लेकिन अगर आप इसको सीमित मात्रा में खाएंगे तो यह कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करती है।

6. मेटाबॉलिज्म को ठीक करती है।

शकरकंदी में फाइबर की मात्रा भी होती है तो यह मेटाबॉलिज्म को ठीक करने में काफी सहायक है।

7. कब्ज की समस्या को दूर करती हैं।

शकरकंदी (sweet potato) कब्ज की परेशानी नहीं होने देती और यदि आपको कब्ज रहता है तो ऐसे में इसका सेवन आपकी समस्या को दूर कर सकता है।

8. शारीरिक ऊर्जा बढ़ती है।

जैसा कि हमने ऊपर बताया है कि इसमें बहुत सारे पोषक तत्व होते हैं जैसे जिंक फास्फोरस विटामिन पोटेशियम इत्यादि।

तो यह एक एनर्जी बूस्टर की तरह भी काम करती हैं जो आपको पूरे दिन फुर्तीला और एनर्जी भरा महसूस कराती हैं।

9. शरीर को संक्रमण से बचाती है।

शरीर को संक्रमण मुक्त तथा कीटाणुओं से बचाव के लिए भी sweet potato काफी लाभकारी है।

10. सर्दियों में गर्मी महसूस कराती है।

क्योंकि शकरकंदी गर्म तासीर की होती है तो यह शरीर को गर्म रखने में मदद करती है।

11. बालों को मजबूत बनाती है।

Sweet potato आपके बालों की ग्रोथ बढ़ाने में भी मददगार इस में पाए जाने वाले पोषक तत्व बालों को मजबूती प्रदान करते हैं तथा सिल्की बनाते हैं।

12. त्वचा को स्वस्थ रखती है।

शकरकंदी में बहुत सारे पोषक तत्व होते हैं तो इसके सेवन से स्किन पर कोमलता आती है और त्वचा पर निखार बढ़ता है।

शकरकंद का नुकसान क्या है? – Sweet Potato Side Effects In Hindi

कोई भी चीज कितनी भी स्वास्थ्यवर्धक हो लेकिन अगर अधिक मात्रा में उपयोग करेंगे तो दुष्प्रभाव देखने को मिलते हैं।

इसी तरह यदि आप शकरकंदी का उपयोग बहुत ज्यादा मात्रा में करते हैं तो आपको निम्न नुकसान देखने को मिल सकते हैं।

• sugar की मात्रा बढ़ सकती हैं।

यदि आप शकरकंदी बहुत ज्यादा मात्रा में खाते हैं तो आपके शरीर में शुगर की मात्रा बढ़ने का जोखिम रहता है।

• मधुमेह या डायबिटीज की बीमारी का खतरा रहता है।

क्योंकि sweet potato मीठी होती है तो यह डायबिटीज का कारण बन सकती है।

• मोटापा बढ़ना के कारण बन सकती है।

शकरकंदी या sweet potato का रोजाना उपयोग करने से मोटापा बढ़ सकता है क्योंकि यह कार्बोहाइड्रेट का सोर्स है।

जैसा कि हम जानते हैं कि कार्बोहाइड्रेट्स वजन बढ़ाने का मूल कारण होता है इसीलिए इसे सीमित मात्रा में ही सेवन करना चाहिए।

शकरकंद कब खाना चाहिए?

A farmer holding fresh sweet potato
Sweet potato in hindi

वैसे तो आप इसे किसी भी टाइम खा सकते हैं लेकिन अगर एक सही टाइम की बात करें तो शकरकंदी खाने का सही टाइम नाश्ते के समय होता है।

शकरकंद कब नहीं खाना चाहिए?

• रात के वक्त नहीं खाना चाहिए।

Sweet potato या शकरकंद में बहुत सारे पोषक तत्व होते हैं तो आपको इसे रात के समय में नहीं खाना चाहिए।

रात को शकरकंद खाने से वजन बढ़ने की समस्या हो सकती है क्योंकि sweet potato में बहुत सारे nutrition होते हैं।

रात में इसके सेवन के बाद अगर आप कोई शारीरिक कार्य नहीं करते तो स्वाभाविक रूप से वजन बढ़ेगा।

इसलिए स्वीट पटेटो को रात को खाना जितना अवोइड करेंगे उतना ही आपके लिए लाभकारी होगा।

• बीटा-ब्लॉकर दवा के साथ ना खाएं।

आपको बीटा ब्लॉकर्स दवा के साथ शकरकंदी का सेवन नहीं करना है यह स्वास्थ्य के लिए बेहतर नहीं है।

क्योंकि beta-blocker शरीर में पोटेशियम की मात्रा को बढ़ा देती है और शकरकंदी में भी पोटेशियम की मात्रा होती है जिससे इन्हें एक साथ खाने से स्वास्थ्य जोखिम बढ़ सकते हैं।

• गुर्दे की समस्या में ना खाएं शकरकंद।

यदि आपको गुर्दे से संबंधित कोई समस्या है तब भी आपको शकरकंदी नहीं खानी चाहिए।

शकरकंद खाने का तरीका – Sweet potato किन तरीकों से बनाकर खा सकते हैं?

1.) उबालकर – शकरकंद को पानी डालकर नहीं उबालना चाहिए इसे उबालने के लिए कूकर में पानी भर कर इसमें एक बड़े बर्तन में शकरकंद रखें और इस कूकर में रखें।

ध्यान रखें पानी बर्तन से नीचे रहना चाहिए शकरकंदी में पानी न जाए अब कूकर बंद करके स्वीट पोटेटो उबालें और सर्व करें।

2.) भूनकर – इसे तंदूर में कबाब की तरह नहीं भूलना जाता बल्कि चूल्हे की राख में दबाया जाता है और आग धीमी कर दें ताकि शकरकंद जले न, यह धीरे धीरे ही अच्छी बुनती है।

3.) हलवा – बहुत लोग शकरकंदी का हलवा बना कर खाना पसंद करते हैं तो चलिए हलवा कैसे बनाएं जानते हैं इसके लिए स्वीट potato को उबाल लें।

अब एक कड़ाही में 1चम्मच देसी घी डालकर गर्म करें इसमें इलायची पाउडर डाल दें उसके बाद अपने अनुसार पानी डालकर उबाल लें।

अब यदि आप मीठा ज्यादा खाना पसंद करते हैं तो इसमें अपने टेस्ट के हिसाब से चीनी डाल सकते हैं वरना शकरकंदी तो मीठी होती ही है।

तो आपको पानी में उबाल कर रखी शकरकंद डालकर हल्के की तरह थिक बनाना है और ऐसे आपका शकरकंद का हलवा बनकर तैयार है।

भारत में शकरकंदी या मीठे आलू को और भी कई तरह से खाया जाता है आपको शकरकंद को किस तरह खाना पसंद है हमसे शेयर करें अपनी यूनिट स्वीट पोटेटो डिश।

FAQs: शकरकंदी से जुड़े कुछ अन्य सवालों जो अक्सर लोग पूछते हैं।

sweet potato in a jute bag
Sweet potato in hindi

Q. सौ ग्राम शकरकंद में कितनी कैलोरी होती है?

100 ग्राम शकरकंदी में 86 कैलोरी होती हैं साथ ही इसमें फाइबर की भी अच्छी मात्रा पाई जाती है तो यह आपकी कैलौरी की मात्रा को नियंत्रित रखती है।

Q. क्या रोज शकरकंद खाना ठीक है?

नहीं, शकरकंद को रोज खाना अच्छा नहीं है क्योंकि इसमें स्टार्च और कार्बोहाइड्रेट जैसे शक्तिशाली पोषक तत्व होते हैं।

तो यदि आप इनका सेवन नियमित रूप से रोज करेंगे तो आपके स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव हो सकता है।

तो आपको हफ्ते में केवल दो से तीन बार ही sweet potato खाना चाहिए तभी आप इसके फायदे और स्वाद का मज़ा ले पायेंगे।

Q. क्या खाली पेट शकरकंद खा सकते हैं?

शकरकंदी को खाली पेट कभी नहीं खाना चाहिए, क्योंकि इसमें मौजूद टैनिन और पैक्टीन गैस का कारण बन सकते हैं।

तो आपको इसे हमेशा कुछ खाने के बाद ही सेवन करना चाहिए तभी आपको इसके सही फायदे मिलेंगे।

Q. शकरकंद कब नहीं खाना चाहिए?

अगर आपकी शकरकंदी खराब है तब आपको इसे नहीं खाना चाहिए क्योंकि यह हेल्थ को खराब कर सकती है।

इन स्थितियों में शकरकंदी खराब हो जाती है।

• जब आपको स्वीट पटेटो या शकरकंदी में से बदबू आ रही हो।

• शकरकंदी को छीलने के बाद यदि अंदर से उसके रेशेदार गुच्छे बने हो।

• यदि शकरकंदी नरम हो बहुत ज्यादा रिस रही हो तब भी यह खराब हो चुकी है।

Q. वजन घटाने के लिए शकरकंद खराब है?

अगर आप डाइटिंग पर है अपना वजन घटाना चाहते हैं और आप शकरकंदी सेवन करना चाहते हैं।

तो ऐसे में आपको ध्यान रखना है शकरकंदी की एक सीमित मात्रा निर्धारित करें और हफ्ते में केवल एक बार इसका सेवन करें।

क्योंकि इसमें मिठास होती है और यह कार्बोहाइड्रेट का भी स्रोत है तो यह ज्यादा खाने से वजन बढ़ा सकता है वजन कंट्रोल करने के लिए इसकी मात्रा को भी कंट्रोल करना पड़ेगा।

इसके अलावा आप अपने डॉक्टर से इस बारे में जानकारी लें सकते हैं कि आपको sweet potatoes का सेवन वेट लॉस के लिए कैसे करना चाहिए।

Q. शकरकंद में कौन सा विटामिन पाया जाता है?

Sweet potato में बहुत सारे विटामिन्स होते हैं विशेषकर विटामिन ए, विटामिन बी और विटामिन सी इसमें ज़्यादा पाएं जाते हैं।

Q. क्या शकरकंदी खाने से वजन बढ़ता है?

बिल्कुल, यदि आप शकरकंदी का उपयोग बहुत ज्यादा करेंगे तो आपका वजन बढ़ सकता है।

लेकिन अगर आप सीमित मात्रा में इसका प्रयोग करें तो आपको मोटापा बढ़ने की समस्या नहीं होगी।

Q. क्या दूध पीने के बाद शकरकंद खा सकते हैं?

बेशक, आप दूध पीने के बाद या दूध पीने से पहले इसके अलावा दूध के साथ भी शकरकंदी का सेवन कर सकते हैं इसमें कोई समस्या नहीं है।

Q. कौन सा शकरकंद स्वास्थ्यप्रद है?

शकरकंदी कई तरह की होती है लेकिन सबसे ज्यादा स्वास्थ्यवर्धक शकरकंदी हल्के लाल कलर की होती है।

जो आमतौर पर हम सब सर्दियों में खाते हैं हालांकि इसमें मिठास ज्यादा होती है तो इसे सीमित मात्रा में सेवन करें।

Q. शकरकंद कितनी बार खाना चाहिए?

वैसे तो आप शकरकंदी को रोज भी खा सकते हैं लेकिन इसके लिए आपको एक मात्रा तय करनी होगी।

लेकिन अगर आप sweet potato मन भर कर खाना चाहते हैं तो हफ्ते में दो से तीन बार ही इसका सेवन करें।

Q. शकरकंदी की तासीर क्या होती है?

शकरकंदी या स्वीट पटेटो गर्म तासीर वाली होती है इसमें हाई कैलोरी होती है जो शरीर को ऊर्जा प्रदान करती हैं।

Q. क्या शकरकंद रात में खाना ठीक है?

नहीं, रात को शकरकंदी का सेवन करना नुकसानदायक हो सकता है इसलिए आप इस दिन में ही सेवन करें तो बेहतर है।

निष्कर्ष:

शकरकंदी एक सुपर फूड है जो एक कंपलीट फूड भी माना जा सकता है क्योंकि इसमें बहुत सारे पोषक तत्व होते हैं।

आपको यदि इसके लाभकारी प्रभाव चाहिए तो शकरकंदी की सही मात्रा का अपने डाइटिशियन या चिकित्सक की सलाह पर सेवन करें।

Saniya Qureshi is a Health and Beauty writer, senior consultant and health educator with over 5 years of experience.

Leave a Reply