missed abortion symptoms in hindi | मिस्ड गर्भपात के लक्षण

सबसे पहले यह समझना जरूरी है कि मिस्ड अबॉर्शन क्या है तभी हम इसके लक्षणों को समझ पाएंगे missed abortion वह अवस्था है जब गर्भपात प्रेगनेंसी के चौथे महीने से पहले हो जाता है और आपको इसके लक्षण भी नहीं दिखाई देते, इस तरह के गर्भपात में महिला को ब्लीडिंग नहीं होती और ना ही किसी तरह के कोई लक्षण नजर आते हैं।

missed abortion symptoms
missed abortion symptoms in hindi

इसका मतलब होता है आपको जानकारी नहीं होती फिर भी आपका गर्भपात हो चुका होता है यानी बच्चा गर्भ में अब बढ़ता नहीं है उसका विकास रुक जाता है लेकिन आपका बच्चा अभी भी भ्रूण में ही होता है ऐसे में बिना अल्ट्रासाउंड की रिपोर्ट के डॉक्टर के पास भी इसका सही जवाब नहीं होता कि आपका बच्चा क्यों नहीं बढ़ रहा है। इस तरह की स्थिति में डॉक्टर आपको दवाई देकर पूरी तरह से अबॉर्शन कर देते हैं क्योंकि यह बच्चा आगे नहीं बढ़ पाता।

इसका मतलब होता है कि आपको अबॉर्शन होना चाहिए था लेकिन नहीं हुआ क्योंकि बच्चा किसी वजह से पूरी तरह से नहीं बन सकता तो उसे गर्भ से बाहर आ जाना चाहिए था लेकिन फिर भी वह आपके गर्भ में ही है इसी को मिस्ड अबॉर्शन कहा जाता है जिसको साफ शब्दों में कहें तो आपको अबॉर्शन होना चाहिए था लेकिन नहीं हुआ आपका बच्चा गर्भ में तो है लेकिन उसका विकास नहीं हो रहा है ऐसे में उसे बाहर निकलना जरूरी हो जाता है नहीं तो मां की स्थिति खराब हो सकती है।

इस अवस्था को समझने के लिए यह समझना जरूरी है कि आखिर गर्भपात है क्या और इसके कितने प्रकार होते हैं

गर्भपात क्या है और कितने प्रकार?

गर्भपात या फिर मिसकैरेज उस स्थिति को कहा जाता है जब प्रेगनेंसी के 20 हफ्ते से पहले ही गर्भ में भ्रूण की मृत्यु हो जाती है यह एक्सीडेंटली हो सकता है या फिर कुछ लोग अबॉर्शन खुद कराते हैं।

गर्भपात के कई प्रकार होते हैं जिनमें एक होता है missed abortion जिसके बारे में हम इस पोस्ट में पढ़ रहे हैं इसके अलावा भी इसके प्रकार होते हैं चलिए उन्हें भी समझ लेते हैं

मिस्ड गर्भपात – तो सबसे पहले मिस्ट गर्भपात को ही समझ लेते हैं इसमें भ्रूण खुद ब खुद ही समाप्त हो जाता है यानी बच्चे का विकास होना रुक जाता है इसके बार में किसी भी तरह के लक्षण दिखाई नहीं देते इसका पता जब चलता है जब आप अल्ट्रासाउंड कराते हैं।

अधूरा गर्भपात – इसका दूसरा प्रकार है अधूरा गर्भपात इसका मतलब होता है कि अबॉर्शन तो हो गया है लेकिन अधूरा मतलब सिर्फ भूर्ण का आधा भाग ही बाहर आया है अभी आधा भाग गर्भ में ही है इसका सही पता भी अल्ट्रासाउंड से ही लगता है उसके बाद निदान करना जरूरी होता है।

अपरिहार्य गर्भपात – इस तरह के गर्भपात में गर्भाशय ग्रीवा खुल जाती हैए जिससे भ्रूण बाहर आ जाता है। ऐसी स्थिति में महिलाओं को पेट में दर्द और ऐंठन की शिकायत रहती है।

सेप्टिक गर्भपात – इसका मतलब होता है कि संक्रमण हो गया है जिसकी वजह से गर्भपात हो जाता है।

पूर्ण गर्भपात – पूर्ण गर्भपात का सीधा सा मतलब होता है कि अबॉर्शन पूरी तरह से हो गया है आपका बच्चा गर्भ से पूरी तरह से बाहर आ गया है ऐसी अवस्था में महिला को भारी bleeding होती है।

इसमें रक्तस्राव होता रहता है और गर्भाशय ग्रीवा खुल जाती हैए जिससे भ्रूण बाहर आ जाता है। इस दौरान महिला को पेट में लगातार ऐंठन होती रहती है।
सेप्टिक गर्भपात -गर्भ में संक्रमण होने से गर्भपात होता है।

khushi mt kit tablet महिलाओं में गर्भपात के लिए एक प्रभावी उपाय

Missed abortion symptoms in hindi | मिस्ड गर्भपात के लक्षण और उपाय

Missed abortion में अक्सर महिलाओं को किसी भी तरह के लक्षण नहीं दिखाई देते। वह नोट नहीं कर पाती, कि उनका गर्भपात हो गया है और अब उनके बच्चे का विकास नहीं हो रहा है। क्योंकि इस तरह के गर्भपात में ब्लीडिंग नहीं होती और गर्भपात जैसे साफ लक्षण भी नजर नहीं आते।

अगर किसी को मिस्ट गर्भपात हो जाता है तो उसे किस तरह की दिक्कत हो सकती हैं इसके बारे में पूरी तरह से नहीं कहा जा सकता कि किन लक्षणों के दिखने पर मिस्ड गर्भपात हुआ है लेकिन यह कुछ आवश्यक पॉइंट्स है जो इस तरह के गर्भपात में देखे गए हैं।

पेट में दर्द

पेट में हल्का दर्द होना प्रेगनेंसी में सामान्य माना जाता है अक्सर महिलाओं को प्रेगनेंसी के दौरान पैडू में दर्द रहता है। हल्के से लेकर तेज दर्द का महसूस हो सकता है, जो पेट के किसी भाग में हो सकता है।

ब्लीडिंग

कुछ महिलाओं को प्रेगनेंसी के दौरान कभी-कभी हल्की सी बिल्डिंग भी हो जाती है इसे भी नॉर्मल माना जाता है लेकिन अगर आपको गहरे लाल रंग का रक्त बूंद के रूप में आ रहा है तो इसका मतलब Missed abortion होना भी हो सकता है ऐसे में चेकअप कराना चाहिए।

टिस्यू निकलना

अगर किसी महिला को गर्भावस्था के दौरान bleeding होती है या फिर रक्त के साथ हल्का सा टिशु निकलता है जिसे खासकर किसी छोटे से पत्ते की तरह देखा जा सकता है तो यह भी मिस्ड गर्भपात का एक लक्षण माना जा सकता है।

बूंदें

अगर आपको बार-बार पेशाब आ रहा है और पेशाब करने के बाद आपको पेशाब की बूंदे निकलती है इसके अलावा आपको ऐसा लगता है कि अभी भी आपको मूत्र त्याग करना है तो यह स्थिति Missed abortion का संकेत हो सकती है।

ब्रेस्ट टेंडरनेस

स्तनों में दर्द महसूस होना भी एक लक्षण है जो कि गर्भपात होने की शंका पैदा कर सकता है अगर किसी महिला को स्थानों में लंबे समय तक दर्द बना रहता है और कभी-कभी यह दर्द तेजी से बढ़ जाता है तो इसका मतलब भी गर्भपात हो सकता है।

ज्यादा थकान महसूस होना

जब महिलाओं को जरूरत से ज्यादा थकान होने लगे और वह पहले जितना सोती थी उससे ज्यादा नींद आए। उन्हें काम करने में जल्दी थकावट महसूस हो तो यह स्थिति भी इसका एक कारण और लक्षण हो सकती है।

चक्कर और बेचैनी

जब किसी महिला का Missed abortion होता है तो उसे बहुत ज्यादा बेचैनी रहती है उसके शरीर में उसे हर वक्त झनझनाहट और अजीब सा दर्द महसूस होता है जिसके लिए वह अपने हाथों पैरों को मालिश कराती रहती है पर सुकून नहीं मिलता। यह स्थिति भी एक संकेत होता है जिसका अर्थ है कि महिला को गर्भपात हुआ है।

हाथों पैरों में जलन

हाथों पैरों में जलन रहना भी गर्भावस्था में एक सामान्य स्थिति मानी जाती है जिसमें महिलाओं को अक्सर हाथों की हथेलियां और पैरों के तलवे में गर्मी महसूस होती है लेकिन इस तरह की स्थिति अगर बहुत समय तक बनी रहती है तो यह गर्भपात हो जाने का एक लक्षण है।

Missed abortion को सीक्रेट मिसकैरेज भी कहा जाता है इसका मतलब होता है इस तरह के मिसकैरेज में लक्षण दिखाई नहीं देते और हमने आपको जो लक्षण बताए हैं वह संभावित है।

यानी इस तरह के लक्षण देखने पर आपको चेकअप कराना चाहिए लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आपका गर्भपात ही हुआ है, हो सकता है कि आपकी स्थिति सामान्य ही हो या कोई और प्रॉब्लम हो। यह सिर्फ संभावना के रूप में बताए गए हैं।

Pregnancy and Abortion: A Practical Guide to Making Decisions

मिस्ड गर्भपात हो जाने के बाद क्या करना चाहिए?

यदि किसी महिला को मिस्ड प्रेगनेंसी हो जाता है, तो उसे कुछ महत्वपूर्ण चरणों का पालन करना चाहिए. यहां कुछ सामान्य सुझाव दिए जा रहे हैं, लेकिन सबसे अच्छा है कि महिला अपने चिकित्सक से राय लें:

डॉक्टर से संपर्क करें: मिस्ट गर्भपात के बाद सबसे पहले डॉक्टर से मिलें, उनसे अपनी स्थिति बताएं वह आपको ऐसी दवाई देंगे जिससे आपका पेट साफ हो जाए और भ्रूण आपके पेट से बाहर आ जाए क्योंकि अगर आपका भ्रूण रहता है तो आपको स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है इसके अलावा डॉक्टर की सलाह का पालन करें।

अधिकांश आराम: मिसकैरेज के बाद आपको आराम की बहुत जरूरत होती है तो इस तरह का मिसकैरिज होने पर आपको शांति और सुधार की आवश्यकता है उसके लिए लगभग 1 से 2 हफ्ते आराम करें भारी कामों से दूर रहे।

इलाज का पालन करें: जो भी दवाइयां डॉक्टर आपको देते हैं और जिस तरह की डाइट और जितने टाइम तक आपको आराम करने की सलाह देते हैं उन सभी बातों का ध्यान रखें और सभी का पालन करें।

पर्सनल हाइजीन: चाहे किसी भी तरह से आपका गर्भपात हुआ हो आपको personal hygiene का ध्यान जरूर रखना है स्वच्छता का ध्यान अपने खाने पीने, कपड़ों में और अपने आसपास हर जगह रखें ताकि आपको किसी भी तरह के संक्रमण से सुरक्षा मिले यह एक महत्वपूर्ण कदम है।

प्राकृतिक स्वास्थ्य का ध्यान रखें: डॉक्टर के बताएं अनुसार तो आपको अपना ख्याल रखना है लेकिन नेचुरल तरीके से भी अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें। उसके लिए healthy खाना खाएं, पर्याप्त पानी पिएं, घर में योग करें, इन सभी चीजों को करने से आप जल्दी ठीक होगी और भविष्य में इस तरह की दिक्कत होने की संभावना भी कम हो जाएगी।

इमोशनल सपोर्ट: यह वह समय होता है जब महिलाओं को emotional support की जरूरत होती है ऐसे में परिवार और दोस्तों को उसका साथ देना चाहिए, विशेषकर पति को अपनी पत्नी के साथ रहना चाहिए उसका ध्यान रखना चाहिए।

आशा करते हैं कि आपको Missed abortion के बारे में जो जानकारी चाहिए थी वह हमारे द्वारा पूरी तरह से आपको मिली है अगर आपको यह जानकारी पसंद आई है तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और अगर इस संबंध में आपका कोई सवाल है तो कमेंट में जरूर बताएं हम आपके सवालों का जवाब देने की पूरी कोशिश में रहते हैं।

Saniya Qureshi is a Health and Beauty writer, senior consultant and health educator with over 5 years of experience.

Leave a Reply