Gajar ke beej for pregnancy in Hindi

प्रेगनेंसी में गाजर खाने के फायदे तो आपने सुने होंगे और डेफिनेटली गर्भावस्था के दौरान गाजर खाना बहुत अच्छा होता है गाजर डाइजेशन को इंप्रूव करती है दिल की बीमारियां कम करती है आंखों की रोशनी तेज करने में मदद करती है ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रखती है इसके अलावा भी कई तरह के फायदे गाजर खाने से मिलते हैं।

Gajar ke beej for pregnancy
Gajar ke beej for pregnancy in Hindi

लेकिन क्या आपने प्रेगनेंसी के लिए Carrot seeds का सेवन करने के फायदे सुने हैं अगर नहीं तो आज जान जाएंगे ट्रेडिशनल थेरेपी के अकॉर्डिंग जब गाजर के बीज पर रिसर्च की गई तो पाया गया कि इससे महिलाओं में बहुत जबरदस्त नतीजे आते हैं। इनफर्टिलिटी की कंडीशन में यह बहुत लाभकारी होता है।

तो आज के इस लेख में हम समझेंगे Gajar ke beej को कैसे इस्तेमाल करना है इसे कब लेना है और किन-किन समस्याओं में महिलाएं इन्हें उपयोग कर सकती हैं सही से समझने के लिए अंत तक पढ़ें।

Gajar ke beej for pregnancy in Hindi

आज की व्यस्त लाइफस्टाइल में यह देखा गया है कि महिलाओं में (Libido – Problem of sexual desire) सेक्सुअल डिजायर की कम रहती है जिसकी वजह से महिलाओं में प्रेग्नेंट होने की संभावना कम हो जाती है ऐसे में आप गाजर के बीज को इस्तेमाल कर सकते हैं और अपने उन कारणों को खत्म कर सकते हैं।

जिनकी वजह से सेक्सुअल डिजायर की कमी रहती है चलिए पहले समझ लेते हैं कि गाजर के बीज को आपको किन-किन समस्याओं में लेना चाहिए ताकि आपके अंदर प्रेग्नेंट होने की क्षमता बढ़े।

अगर पीरियड होने में समस्याएं आती है तो प्रेग्नेंट होने में भी प्रॉब्लम्स होती हैं तो अगर आपको पीरियड के समय ज्यादा दर्द होता है पीरियड बहुत कम आते हैं तो ऐसी कंडीशन में गाजर के बीज आपके लिए लाभकारी होगें।

महिलाओं को कमर कटने की समस्या रहती है तब भी Gajar ke beej आप ले सकती हैं यह इस समस्या को बहुत अच्छी तरह से कंट्रोल करते हैं।

लिवर डिटॉक्स करने के लिए उपयोगी है जब तक लिवर डिटॉक्स नहीं होता तो शरीर में हॉरमोन इंबैलेंस बना रहता है तो इनके सेवन से हार्मोन को बैलेंस करने में बहुत मदद मिलती है।

साथ ही किडनी समस्याओं को हल करने के लिए भी यह होम रिमेडी फायदेमंद होती है जैसे की किडनी में पथरी हो जाना किडनी की में सूजन या कमजोरी आ जाना यह इन सभी समस्याओं में फायदा करती है।

साथ ही अगर औरतों में यूरिन इंफेक्शन है या बार-बार पेशाब आने की शिकायत रहती है तो इस समस्या में भी यह गाजर के बीज बहुत अमेजिंग तरीके से काम करते हैं।

और पढ़े – 1 to 3 month pregnancy diet chart

Gajar ke beej उपयोग कब करना है?

हम आपको रेमेडी बताएंगे रेमेडी को आपको पीरियड बंद होने के बाद लेना शुरू करना है और उसके बाद जब अगली बार आपको पीरियड हो उससे पहले इसे लेना बंद कर देना है यह उन महिलाओं को लेना है जिनको बहुत कम समस्याएं होती हैं।

लेकिन जिन्हें पीरियड नहीं आ रहे हैं और इसकी वजह से प्रेगनेंसी में दिक्कत आ रही है उन्हें इसे लगातार प्रयोग करना है जब तक की आपको पीरियड ना आने लगें, और जब आपको पीरियड आने लगेंगे फिर इसे यह लेना छोड़ देना है और इसी तरह से इसका उपयोग करना है जब पीरियड आए तो इसे छोड़ दें, और फिर पीरियड बंद होने के बाद लेना शुरू करें।

इस तरह से इस रेमेडी का उपयोग करने से आपकी पीरियड की सारी समस्याएं दूर हो जाएगी और आपको प्रेगनेंसी में भी कोई दिक्कत नहीं आएगी।

जो महिलाएं शादी के बाद प्रेग्नेंट होने में प्रॉब्लम का सामना कर रही है उनके लिए यह बहुत ही अमेजिंग तरीके से वर्क करता है और इसका इस्तेमाल कुछ दिनों करने से कई तरह की प्रेगनेंसी प्रॉब्लम खत्म हो जाती हैं।

Gajar ke beej को लेना कैसे है?

आप Gajar ke beej का इस्तेमाल दो तरह से कर सकती हैं पहले इसकी चाय बनाकर सेवन करें यानी काढ़ा बनाएं और उपयोग करें इसे तैयार करने के लिए आप अजवाइन को भी इसमें शामिल कर सकती हैं:

इसे इस तरह से बनाएं डेट कप पानी में आधा चम्मच अजवाइन और आधा चम्मच गाजर के बीज डालकर उबालें। जब यह एक कप रह जाए उसके बाद आप इसे छान कर इसमें शहद मिलाएं या गुड मिला सकते हैं या आप बिना मीठे के भी इसका सेवन कर सकती हैं जैसा आपके लिए सही रहे इस तरह से आप इसको इस्तेमाल करें।

इसे आप दिन में दो बार जरूर प्रयोग करें इसको उपयोग करने का कोई समय नहीं है आप इसे खाना खाने से पहले खाना खाने के बाद कभी भी सेवन कर सकती हैं।

अब बात करते हैं दूसरे तरीके से कैसे इस्तेमाल करें? यह तरीका पीरियड के लिए बहुत ज्यादा कारगर होता है अगर आपको पीरियड में दर्द रहता है पीरियड होने में प्रॉब्लम आती है या अनियमितता की समस्या है, टाइम से पीरियड नहीं होते, पीरियड में मांस के टुकड़े आते हैं या कोई भी दिक्कत जो आपको पीरियड से जुड़ी रहती है उसमें यह रेमेडी बहुत अच्छी रहती है चलिए समझते हैं इसे कैसे बनाएं और कैसे उपयोग करें।

Remedy को तैयार करने के लिए डेढ़ कप पानी उबालें, उसमें एक चम्मच Gajar ke beej डालें। इसे तब तक पकाएं जब तक की यह एक कप ना रह जाए, उसके बाद इसमें गुड मिलाना है गुड़ देसी होना चाहिए केमिकल वाला अच्छा ना होता ऑर्गेनिक इस्तेमाल करेंगे तो आपको फायदा मिलेगा नहीं तो केमिकल वाले गुड से दिक्कत हो जाती है।

उसके बाद इसे छानकर उपयोग करें इसका इस्तेमाल आप कभी भी कर सकती हैं खाना खाने से पहले या खाना खाने के बाद सुबह या शाम के वक्त जब भी आपको सही लगे।

कई रिसर्च में यह पाया गया है, कि जिन महिलाओं को पीरियड से संबंधित समस्याएं थीं जिन्हें प्रेगनेंसी न होने की दिक्कत थी या जिन महिलाओं को किसी भी तरह की अन्य प्रॉब्लम रहती थी उनके लिए Gajar ke beej बहुत अच्छे रहते हैं इन गाजर के बीज की रेमेडी को उपयोग करने से लिवर किडनी पीरियड प्रेगनेंसी में आई सभी तरह की समस्याओं में फायदा मिलता है।

Saniya Qureshi is a Health and Beauty writer, senior consultant and health educator with over 5 years of experience.

Leave a Reply