Dhasi hui aankhon ke liye Yoga aur Exercises (Expert से जानें)

आंखें जो खोखली या गहरी दिखाई देती हैं, आंखों के नीचे गड्ढे हो जाते हैं, यानी धँसी हुई आंखें, इसके कई कारण हो सकते हैं उम्र बढ़ना, आनुवंशिकी, अचानक वजन में कमी, या चेहरे की चर्बी में कमी और गलत लाइफस्टाइल।

योग से आंखों का स्वास्थ्य अच्छा होने और धँसी हुई आँखों को साधारण स्थिति में लाने में मदद मिल सकती हैं। आँखों के स्वास्थ्य में सुधार करने और आंखों के गड्ढों को भरने के लिए आप कुछ सरल एक्टिविटीज भी कर सकते हैं जैसे-हथेलियाँ मलना, आँखों को घेरे में लाना और infinity sign पर ध्यान लगाना इन सब प्रक्रियाओं को उपयोग में ला सकते हैं।

योग मुद्राएं जिनसे आंखों को आराम मिलता है और आंखों की समस्याएं दूर होती हैं जैसे कि मकर मुद्रा और शवासन शामिल हैं। 

ध्यान और सांस लेने की तकनीकों से तनाव को कम किया जा सकता है। Dhasi hui aankhon को गढ्डों से बाहर निकालने के लिए और स्वस्थ रखने के लिए अच्छी जीवनशैली भी जरूरी है जिसमें पर्याप्त आराम, स्वस्थ भोजन और सही मात्रा में पानी शामिल है।

Dhasi hui aankhon ke liye Yoga

A woman concious for her eye issue
Dhasi aankhon ke liye yoga aur exercise

धंसी हुई आंखों के लिए कुछ योगासन:

त्राटक:

आँखों की ताकत और ध्यान बढ़ाने के लिए, एक ही बिंदु पर टकटकी लगाएं, जैसे कि मोमबत्ती की लौ लगातार देखना। इससे आंखें सामान्य स्थिति में आ जाएगी और आंखों की दृष्टि भी अच्छी होती है।

पाल्मिंगः

आंखों को सेहतमंद रखने, Dhasi hui aankhon से बचने, अपनी बंद पलकों को शांत करने और आराम देने के लिए, हथेलियों को धीरे से एक साथ रगड़ें और आंखों पर रखें। इससे आंखों को राहत मिलती है और जलन कम होती है।

बी ब्रीथ, या भ्रामरी प्राणायाम:

आप एक गहरी सांस लेकर उसे धीरे-धीरे छोड़ें। इसमें ऐसी आवाज आएगी जैसे कि एक मधुमक्खी की आवाज हो। इसका सीधा असर आंखों की समस्याओं को दूर करने और मानसिक शांति को बढ़ाने पर होता है। साथ ही ऐसा करने से आंखों और सिर का दर्द कम होता है।

ध्यान मुद्रा:

अपनी आंखों को बंद करके हाथों को आरामदायक रूप से अपने पैरों पर रखें और मन के सभी विचारों को व्यवस्थित करने की कोशिश करें, जब तक कि आप विचार हीन हो जाएं।

ध्यान शरीर और हर तरह की दिमागी बीमारी को दूर करने की शक्ति रखता है। ध्यान करने से आपकी आंखों का धुंधलापन, डार्क सर्कल्स और हर प्रकार की आंखों की समस्याएं दूर हो जाएंगी।

आँखों को एक तरफ से दूसरी तरफ ले जानाः

अपनी आँखों को एक तरफ से दूसरी तरफ धीरे से ले जाएँ। इससे आपकी आंखों में लचीलापन आएगा। और आंखों के मसल्स मजबूत होंगे इस तरह Dhasi hui aankhon को ही करने में मदद मिलेगी।

सूर्य नमस्कार:

सूर्य नमस्कार विश्व भर में बहुत प्रसिद्ध है क्योंकि यह आपके शरीर के हर स स्वस्थ बनाता है। इससे आपकी आंखों के साथ पूरे शरीर की एक्सरसाइज होती है।

नेत्र नृत्य:

नेत्र नृत्य का सीधा मतलब है आंखों को सरल गति में घुमाना इसे आँखों की मांसपेशियों को विकसित करने के लिए किया जाता है। यदि आंखे की मांसपेशियां मजबूत होगी तो आंखें अपने आप गड्ढों को भर लेंगी।

मगरमच्छ मुद्रा (मकर मुद्रा):

अपने पेट के बल लेटें और अपने हाथों को अपने सिर के नीचे रखें। मकर मुद्रा से आराम मिलता है जो की आंखों के स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी है।

शवासन:

पीठ के बल लेटते समय अपनी आँखें बंद करें। यह स्थिति सामान्य विश्राम को बढ़ावा देती है। आंखों को पूरी तरह राहत मिलता है। और शवासन के अभ्यास से आंखें सामान्य स्वास्थ्य को बरकरार रख पाती हैं।

Cureskin products क्या side effects हो सकते हैं?

धंसी हुई आंखों को बाहर निकालने का तरीका Exercise

सरल व्यायामः

Infinity sign ∞ को देखें और अपनी आँखों से इस चिह्न को बार-बार बनाएं। इसकी आउटलाइन को बार-बार पूरा करें इस shape को बनाने से आंखों की बहुत अच्छी एक्सरसाइज होती है।

मालिश करें:

आंखों की मालिश करने से उनकी सभी समस्याएं दूर की जा सकती है इसके लिए आप Eye massage cream का उपयोग करके आंखों की सर्कुलर मोशन में मसाज करें। ताकि आंखों की मांसपेशियों में खून तेजी से पहुंचे। जैसे ही ब्लड सरकुलेशन अच्छा होगा आपकी आंखों से डार्क सर्कल्स, गढ्डे और रिंकल्स खत्म होना शुरू हो जाएंगे।

गोलाकार में घुमाएं

अपनी गति की क्षमता बढ़ाने और तनाव को कम करने के लिए अपनी आँखों को गोलाकार तरीके से घुमाएँ। इससे आंखों की नसें गतिशील रहेगी और आपके स्वस्थ बनी रहेंगी।

आँखों के विकास के लिए व्यायामः

कुछ सेकंड के लिए अपनी आँखों को बढ़ाने की कोशिश करें, उन्हें बड़ा दिखाने पर ध्यान लगाएं।

पलक झपकाने का अभ्यास करेंः

Dhasi hui aankhon को ठीक करने, सूखेपन से बचने और आंखों की नमी बनाए रखने के लिए अपनी आंखें नियमित रूप से झपकाते रहें।

क्या धँसी हुई आँखें और काले घेरे एक ही चीज़ हैं?

आँखों के चारों ओर हल्के काले कलर का आ जाना, जिसे “काले घेरे” के रूप में जाना जाता है, वह है जो निचली पलकों के नीचे गहरे रंग या छाया का कारण बनता है। काले घेरे आनुवंशिकी, तनाव और नींद की कमी जैसे कारणों से दिखाई देते हैं।

जबकि आंखों के नीचे गड्ढे या आंखों का अंदर की तरफ चले जाने को धंसी हुई आंखें के रूप में जाना जाता है।

Dhasi hui aankhon और आंखों के नीचे काले घेरे आ जाने से आंखें लगभग एक तरह की ही दिखाई पड़ती हैं ऐसा लगता है जैसे आंखें डूबी हुई हूं। लेकिन यह दोनों समस्याएं बिल्कुल अलग है इनके कारण भी अलग है और इनको ठीक करने के लिए उपाय भी अलग होते हैं। अच्छा खाना खाना और पूरी तरह नींद लेना दोनों ही समस्या में लाभ प्रदान करता है।

आंखों के धंसने के कारण!

उम्र बढ़ना: उम्र बढ़ने के साथ आपकी आंखों के आसपास झुर्रियां और रेखाएं दिखाई देने लगती हैं क्योंकि आपकी आंखें जरूरी तत्वों को खो देती है। और आंखें डूबी हुई नजर आती है।

पानी की कमी: पर्याप्त पानी नहीं पीने से आपकी त्वचा खोखली दिखाई देने लगती है और उस पर आसानी से झुर्रियां पड़ने लगती हैं। इससे आंखों के नीचे भी झुर्रियां बढ़ती हैं जिससे स्किन सुखी हो जाती है और गड्ढे में चली जाती है।

थकान और नींद की कमी: पर्याप्त नींद न लेने से आपकी आंखों के नीचे खाली धब्बे और काले घेरे हो सकते हैं।

यूवी रेज और प्रदूषणः ये दो तत्व आपकी त्वचा की उम्र बढ़ने के संकेतों को तेज कर सकते हैं, जिससे आपकी आंखों के चारों ओर तह और खाली धब्बे बन सकते हैं। आंखें धंसी धंसी नजर आती है।

स्ट्रेस: ज्यादा तनाव आपकी त्वचा को नुकसान पहुंचा सकता है और आपकी आंखों के नीचे काले घेरे और गहराई को बढ़ा सकता है।

आनुवंशिकीः आपकी त्वचा का रंग आंखों की गहराई वगैरा आपके पालन-पोषण के तरीके से प्रभावित हो सकता है, और कुछ लोगों को बाकियों की तुलना में आंखों के नीचे के स्थानों के लिए अधिक खतरा हो सकता है।

एलर्जीः एलर्जी आपकी आँखों के नीचे के क्षेत्र को बढ़ा सकती हैं और खोखला कर सकती हैं।

तेजी से वजन कम करनाः बहुत जल्दी बहुत अधिक वजन कम करने से आपकी आंखें अपने आसपास की चर्बी को कम हो जाती है जिससे आंखें गहरी और धंसी हुई नजर आती है। आपको एक अच्छा डाइट प्लान फॉलो करते हुए ही अपना वजन धीरे-धीरे घटाना चाहिए।

सूरज की रोशनीः बिना ढके के सूरज के लंबे समय तक संपर्क में रहने से त्वचा की उम्र बढ़ने की प्रक्रिया में तेजी आ सकती है और झुर्रियाँ और फोड़े हो सकते हैं। आंखों की समस्या तेजी से बढ़ती हैं।

चिकित्सा स्थितियाँः कई प्रकार की बीमारियाँ और उपचार, मुख्य रूप से वे जो वसा को कम करते हैं,आंखों के नीचे के खोखलों को कमजोर कर सकते हैं।

विटामिन की कमी: विटामिन के जैसे कुछ विटामिनों की कमी के कारण काले घेरे और खाली क्षेत्र हो सकते हैं, खून की गति धीमी होती है।

सुझाव!

एक स्वस्थ जीवन शैली बनाए रखेंः एक अच्छे जीवन शैली के लिए पौष्टिक आहार और पूरी नींद लेना जरूरी है साथ-साथ एक्सरसाइज या योग भी बहुत आवश्यक है।

सनस्क्रीन और मॉइस्चराइज़र का इस्तेमाल करेंः अपनी त्वचा की रक्षा के लिए ऐसी क्रीम का उपयोग करें जिसमें सनस्क्रीन और मॉइस्चराइज़र दोनों हों।

बादाम का तेल लगाएंः बहुत अधिक कॉफी के सेवन से बचें और बादाम के तेल लगाकर धीरे-धीरे आंखों की मसाज करें इससे Dhasi hui aankhon के गड्ढे तेजी से भरेंगे।

अच्छी नींद लेंः अपने सामान्य स्वास्थ्य के लिए, एक नियमित नींद पैटर्न बनाए रखें और पूरी नींद लें।

ग्रीन टी बैगः सूजन को कम करने के लिए, अपनी आंखों के ऊपर ठंडा ग्रीन टी बैग रखें। इससे आपकी वसा सामान्य हो जाएगी।

धूप का चश्मा पहनेंः धूप से अपनी आंखों की रक्षा के लिए धूप का चश्मा पहनें। जिससे सूरज की किरणों से आपकी आंखों का कोई नुकसान नहीं पहुंचेगा।

संतुलित आहारः संतुलित आहार में विभिन्न प्रकार के पोषक तत्वों से भरपूर भोजन का सेवन करें।

नियमित व्यायामः यदि आप योग या एक्सरसाइज नहीं कर पा रहे हैं तो आप जॉगिंग या फिर वोक जरूर करें। लगातार चलने से आपका सामान्य स्वास्थ्य बना रहता है ।

योग करेंः आंखों के स्वास्थ्य और आराम को बढ़ावा देने के लिए योग को अपनी दिनचर्या में शामिल करें।

ध्यानः तनाव मुक्त, मन की शांति बनाए रखने के लिए ध्यान करें।

अपने भावनाओं का संतुलन का बनाए रखें: अपने गुस्से पर नियंत्रण रखें और जब भी संभव हो दूसरों की मदद करें।

मुस्कुराएँः अपना मूड बहुत अच्छा बनाए रखने के लिए नियमित रूप से मुस्कुराएँ।

बड़ों और बच्चों के साथ समय का आनंद लेंः जब भी आप कर सकते हैं, बच्चों बुजुर्गों और युवाओं दोनों के साथ समय बिताएं।

पानी की आवश्यकताः dehydration से बचने के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं।

बाहर धूप में सनस्क्रीन लगाएंः धूप में बाहर निकलने से पहले सनस्क्रीन लगाएं।

आहार में सुधारः गहरे रंग की पत्तेदार सब्जियों जैसे तरबूज, पत्तागोभी, आलूबुखारा, खीरा, स्ट्रॉबेरी जैसे फल और अजवाइन का भी सेवन बढ़ाएं।

धूम्रपान छोड़ देंः सेहत को अच्छा बनाए रखने के लिए, धूम्रपान छोड़ दें।

खीरे या आलू के टुकड़ों को लगाएंः अपनी आंखों को वापस लाने के लिए खीरे या आलू के टुकड़ों को लगाएं।

सर्जिकल उपचार से धँसी हुई आँखों से कैसे छुटकारा पाएं?

Dhasi hui aankhon के लिए इलाज के बाद सर्जन के द्वारा बताई गई सावधानियां को अपनाएं जैसे आराम करना और घाव को ठीक होने देना, निर्देश के अनुसार दवा लगाना, ठंडे संपीड़न लगाना, छूने या रगड़ने से दूर रहना, आँखों को हवा और सूरज की रोशनी से बचाना, साफ-सुथरा रखना करना शामिल है। शारीरिक गतिविधि से बचने और शल्य चिकित्सक के निर्देशों के अनुसार उपचार को बढ़ावा देना चाहिए।

आंखों को तेज धूप से सुरक्षित रखना, उन्हें छूने या सिर्फ खरोंचने से बचाना, और उनकी स्थिति की जांच करने और कोई भी आवश्यक परिवर्तन करने के लिए अपने सर्जन से सलाह लेना जरूरी है। सही instructions के लिए, अपने शल्य चिकित्सक से बात करें।

FAQs:

Q. आंखें अंदर क्यों जाती हैं?

आंखें अंदर जाने के कई कारण हो सकते हैं जैसे उम्र बढ़ना, गलत लाइफस्टाइल, गलत खानपान, मोबाइल और कंप्यूटर का ज्यादा उपयोग इत्यादि इन सभी कारणों की वजह से आंखों के सॉकेट अंदर चले जाते हैं जिसकी वजह से आंखें अंदर धंसी हुई दिखती हैं।

Q. आंखें अंदर घुस जाए तो क्या करें?

आंखें अंदर घुस जाएं तो आपको अपने खान-पान का ध्यान रखना चाहिए आंखों की एक्सरसाइज और योग नियमित रूप से करनी चाहिए ऐसा करने से स्थिति में सुधार देखने को मिलता है।

Q. आंखों के नीचे गड्ढे को कैसे भरें?

आंखों के नीचे हुए गड्ढे को भरने के लिए आपको इस पोस्ट में बताई गई एक्सरसाइज और योग को करना चाहिए, हेल्दी भोजन पर ध्यान देना चाहिए और आंखों पर बर्फ की सिकाई करनी चाहिए इन सभी तरीकों से आपको लाभ मिलेगा।

Q. क्या धँसी हुई आँखों से छुटकारा पाना संभव है?

हां, Dhasi hui aankhon से छुटकारा पाना संभव है लेकिन इसके लिए आपको प्रयास करना होगा और समय भी देना पड़ेगा, क्योंकि इन्हें ठीक करने के लिए लाइफस्टाइल में Change करके लगातार आंखों की केयर करनी होती है।

Q. धंसी हुई आंखों को बाहर कैसे निकालें?

Dhasi hui aankhon को बाहर निकालने के लिए भोजन में विटामिन ए से भरपूर चीजों को शामिल करना चाहिए।

Saniya Qureshi is a Health and Beauty writer, senior consultant and health educator with over 5 years of experience.

Leave a Reply