Baidyanath Swarna Bhasma ke fayde | बैद्यनाथ स्वर्ण भस्म के फायदे

सोने को कई प्रकार की बीमारियों को ठीक करने के लिए वैज्ञानिक विधि से उपयोग में लाया जाता है सोने की भस्म को दवाइयां में मिलाया जाता है इस भस्म को स्वर्ण भस्म या गोल्ड भस्म भी कहा जाता है आयुर्वेद में इसका बहुत महत्व है अगर आप किसी भी तरह का स्वर्ण भस्म इस्तेमाल कर रहे हैं तो उसको हमेशा आयुर्वेदिक चिकित्सा की देखरेख में ही उपयोग करें।

क्योंकि इसका सेवन करने से बहुत सारे फायदे तो मिलते हैं लेकिन अगर इसे तैयार करने में इस तरह की सामग्री मिलाई जाए जो शरीर के लिए सही नहीं है तो इसके हानिकारक प्रभाव भी हो सकते हैं इसलिए आपको हमेशा स्वर्ण भस्म युक्त चीजों को डॉक्टर की देखरेख में ही लेना चाहिए।

आज हम बात करने वाले हैं Baidyanath Swarna Bhasma के बारे में, अगर आप भी इसके स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभाव के लिए चिंतित हैं आपके मन में शंका है कि यह फायदेमंद होगा या नुकसानदायक? तो इस लेख में हम वैज्ञानिक प्रमाण सहित इसके फायदे और नुकसान की जानकारी दे रहे हैं इसे अंत तक पढ़ें।

Table of Contents

बैद्यनाथ स्वर्ण भस्म क्या है?

baidyanath swarna bhasma ke fayde
baidyanath swarna bhasma ke fayde

स्वर्ण भस्म एक आयुर्वेदिक दवाई का नाम है इसे सोने को पिघलाकर तथा शुद्ध करके बनाया जाता है इसमें सोने के तत्व के शक्तिशाली गुण मौजूद होते हैं जो की स्वास्थ्य को कई तरह के फायदे प्रदान करते हैं यह शरीर को यौन स्वास्थ्य में फायदा करता है शारीरिक ऊर्जा बढ़ता है और रक्त की शुद्धि में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

Baidyanath Bhasma का इस्तेमाल मुख्य रूप से दमा के इलाज के लिए होता है इसके अलावा भी इसके कई दूसरे उपयोग होते हैं यह विभिन्न तरह की बीमारियों को ठीक करने में सहायता कर सकता है इसके बारे में नीचे विस्तार से जानकारी दी गई है।

बैद्यनाथ स्वर्ण भस्म के फायदे: (Baidyanath Swarna Bhasma ke fayde)

Baidyanath Swarna Bhasma कई सारे फायदे हो सकते हैं जिनमें कुछ निम्नलिखित है:

पाचन शक्ति और शारीरिक क्षमता बढ़ाएं:

यह इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने में बहुत मदद कर सकता है और इम्यून सिस्टम मजबूत होने की वजह से रोगों से लड़ ने की शारीरिक क्षमता बढ़ जाती है ऐसे में व्यक्ति के तरह की बीमारियों से सुरक्षित रह सकता है।

दमा को ठीक करने में प्रभावी:

यह भस्म मुख्य रूप से दमा को ठीक करने के लिए बहुत उपयोगी होती है नियमित रूप से इसका इस्तेमाल करने के बाद सांस से जुड़ी बीमारियों में सुधार देखा जा सकता है जिन लोगों को दया या टीबी है उनके लिए स्वर्ण भस्म एक चमत्कारी औषधि है अपने डॉक्टर की सलाह पर इसे आज़मा कर देखें।

ब्रेन हेल्थ को बढ़ावा:

यह भस्म सेवन करने से दिमागी स्वास्थ्य सुधरता है मस्तिष्क को स्वस्थ रखने के लिए यह एक बहुत अच्छा तरीका है इसे लगातार रूप से खाने पर याददाश्त बेहतर होती है व्यक्ति दिमागी रूप से पहले से ज्यादा तंदुरुस्त महसूस करता है।

शारीरिक क्षमता में सुधार:

इसका उपयोग करने पर आपकी शारीरिक क्षमता में भी सुधार देखने को मिलता है जिस कारण आपकी बोड़ी पहले से अधिक स्फुर्ति और ताजगी बनी रहती है और शरीर रोगों से सुरक्षित रहता है।

वात, पित्त, कफ को नियंत्रित करता है:

यह वात, पित्त, कफ को नियंत्रित करने में बहुत अच्छा है इसे लेने से संक्रमण वाली बीमारियों से भी बचे रहने में मदद मिलती है इसका इस्तेमाल पित्त और वात की बीमारियों में कारगर साबित हो सकता है।

त्वचा के लिए लाभकारी:

यह त्वचा के स्वास्थ्य को सुधारने में भी मदद कर सकता है इसका सेवन नियमित रूप से करने पर त्वचा आंतरिक रूप से हेल्दी बनती है जिससे बाहरी त्वचा पर एक प्राकृतिक चमक दिखती है और दाग धब्बे व निशान भी दूर हो जाते हैं।

ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करना:

ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में भी इसका एक अहम रोल होता है अगर आप इसे ले रहे हैं तो कुछ दिनों के इस्तेमाल से ही आपका ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहने लगता है ना तो आपको ब्लड हाई होने की शिकायत रहती है और ना ही ब्लड प्रेशर में एकदम से कमी आने की समस्या होती है।

शरीर की ऊर्जा को बढ़ावा देना:

यह शारीरिक ऊर्जा को बढ़ावा देने में भी बेहतर तरीके से सहायता कर सकता है अगर आपके शरीर में थकान और कमजोरी बनी रहती हैं ऐसे में इस औषधि को लेने से आपके शरीर में एक चमत्कारी प्रभाव देखने को मिल सकता है क्योंकि यह शारीरिक शक्ति को तेजी से बढ़ाता है।

और पढ़े - AMRUTAM Gold Malt क्यों खाना चाहिए?

ह्रदय स्वास्थ्य के लिए:

Baidyanath Swarna Bhasma एक ऐसी औषधि है जिसको लेने से दिल का स्वास्थ्य हेल्दी बना रहता है विशेषज्ञों का कहना है कि यह औषधि पुराने से पुराने हृदय रोगों को ठीक करने में मदद करती है तो आप स्वर्ण भस्म को हृदय संबंधी रोगों से छुटकारा पाने और इस तरह की प्रोब्लम से बचे रहने के लिए सेवन कर सकते हैं।

तनाव की स्थिति में असरदार:

तनाव की समस्या से उभरने के लिए Baidhnath Swarna Bhasma के बहुत सारे फायदे देखे गए हैं इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो की दिमागी क्षमता को बढ़ाने में प्रभावी होते हैं इसको लेने से कैटेकोलामाइन (catecholamines) नामक हार्मोन निकलता है, जो तनाव को कम कर सकता है।

कैंसर के लिए उपयोगी:

कैंसर की स्थिति को संभालने तथा इस समस्या को कम करने के लिए स्वर्ण भस्म के बारे में विशेषज्ञ बताते हैं कि यह कैंसर की दवाइयां को बनाने के लिए भी इस्तेमाल की जाती है इसका उपयोग कैंसर को हारने के लिए काफी उपयोगी माना जाता है।

लेकिन Baidhnath Swarna Bhasma को कैंसरग्रस्त मरीज को डॉक्टर की सलाह पर ही लेना चाहिए तभी आप इसके इस्तेमाल से सही उपचार के बारे में जानकारी ले पाएंगे और आपको इसके सही फायदे भी मिलेंगे।

गर्भावस्था में सेवन भी है अच्छा:

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं में एनीमिया का खतरा सबसे ज्यादा देखा जाता है ऐसी स्थिति में शरीर के विभिन्न हिस्सों तक रक्त के साथ ऑक्सीजन की मात्रा भी पहुंचनी जरूरी होती है तो इस स्थिति में स्वर्ण भस्म काफी आराम पहुंचा सकता है।

आंखों के लिए लाभकारी:

आंखों के लिए भी यह उपयोगी मानी गई है एक रिपोर्ट के अनुसार स्वर्ण भस्म को सेवन करने से आंखों की रोशनी बढ़ती है आंखों में होने वाली समस्याओं को कम करने के लिए भी यह अच्छे परिणाम दे सकता है।

जीर्ण ज्वर और बुखार में सहायक:

इसका इस्तेमाल करने से बुखार में राहत मिलती है जो लोग Baidyanath Swarna Bhasma ले रहे हैं उन्हें बार बार बुखार होने की समस्या नहीं होती। और अगर होती है तो वह बहुत जल्दी ठीक हो जाते हैं क्योंकि इसके लाभकारी गुण शारीरिक तापमान को नियंत्रित बनाए रखते हैं।

ब्रह्मचर्य को बढ़ावा:

इसका सेवन करने से ब्रह्मचर्य और यौन स्वास्थ्य को भी बढ़ावा मिलता है विशेष कर पुरुषों में यह यौन क्षमता को बढ़ावा देने के लिए अच्छा है पुरुष यदि इसका सेवन करते हैं तो उनकी सेक्स शक्ति मजबूत होती है।

बालों के स्वास्थ्य को बढ़ावा:

इसे बालों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है जिनके बालों में बहुत सारी समस्याएं हो रही है वह यदि Baidyanath Swarna Bhasma को सेवन करें तो उसके बाल पहले से ज्यादा अच्छे और स्वस्थ तथा मजबूत बन सकते हैं।

धातु क्षय में उपयोग:

स्वर्ण भस्म का उपयोग धातु क्षय में भी किया जा सकता है, जो शरीर की धातुओं की कमी को पूरा करने में सहायक हो सकता है।

स्वर्ण भस्म के बारे में शोध क्या कहते हैं?

यह एक ऐसी औषधि है जो की शारीरिक और दिमागी स्वास्थ्य के लिए काम आ सकती है विशेषज्ञों का कहना है कि शोध के मुताबिक सोने में क्रॉनिक डिसऑर्डर यानी पुरानी बीमारियों को ठीक करने के गुण विद्यमान होते हैं और इसके मिश्रण से बनाई गई दवाई को उपयोग करने से व्यक्ति कई तरह की बीमारियों से बच सकता है और अपनी कई तरह की बीमारियों को ठीक भी कर सकता है।

Baidyanath Swarna Bhasma कब खाएं, कितना खाएं? 

Baidyanath Swarna Bhasma को सुबह नाश्ते के समय खाने की सलाह दी जाती है हालांकि आप इसे सोने से पहले भी खा सकते हैं लेकिन जिस वक्त भी आप इसे ले रहे हैं रोजाना उसी समय लेने की आदत बनाएं, तभी आपको सही परिणाम देखने को मिलेंगे।

इसे रोजाना 12.5 – 62.5 Mg का उपयोग करना बताया जाता है लेकिन आप अपनी स्वास्थ्य स्थिति के आधार पर डॉक्टर से इसकी सही मात्रा लेने के विषय में सलाह लें और उनके बताया अनुसार इसे इस्तेमाल करें।

स्वर्ण भस्म को किसके साथ खाना चाहिए (स्वर्ण भस्म खाने की विधि):

सबसे पहले तो आपको इस बात का ध्यान रखना है कि स्वर्ण भस्म का उपयोग हमेशा विशेषज्ञ की देखरेख में ही करें। ताकि आपको इसके किसी भी तरह के साइड इफेक्ट देखने को ना मिलें, और आप सुरक्षित तरीके से इसके लाभकारी गुणों को प्राप्त कर सके। नीचे कुछ सामान्य विधियां बताई गई है इस सामग्री के साथ मिलाकर आप स्वर्ण भस्म का सेवन कर सकते हैं:

संजीवनी वटी के साथ: इसे संजीवनी वटी के साथ लिया जा सकता है लेकिन ध्यान रखें कि इसे डॉक्टर की सलाह पर ही संजीवनी वटी के साथ लेना सुरक्षित होगा।

स्वर्ण भस्म का मिश्रण: इसे आप देसी घी और शहद में मिलाकर भी सेवन कर सकते हैं यह एक आयुर्वेदिक और घरेलू नुस्खा होता है जिससे विशेषकर कफ और अस्थमा की समस्या जल्दी ठीक हो जाती है।

आयुर्वेदिक औषधि के साथ: क्योंकि यह एक आयुर्वेदिक नुस्खा है तो आप इस आयुर्वेदिक दवाइयां के साथ मिलाकर भी उपयोग कर सकते हैं लेकिन उसके लिए भी विशेषज्ञ की सलाह लेनी आवश्यक होती है।

खाने के पहले: आप इसे किस तरह से ले रहे हैं या किस मिश्रण में मिलाकर ले रहे हैं इस बारे में जानकारी लेने के साथ डॉक्टर से बारीकी से यह भी जानें, की इसका इस्तेमाल खाने से पहले करें या बाद में। क्योंकि हर किसी की स्थिति के आधार पर यह निश्चित करना अलग हो सकता है।

ध्यान दें कि यह सुझाव आम जानकारी हैं, और इसे स्वयं से उपचार के रूप में न लें। सभी उपचारों और आयुर्वेदिक औषधियों को विशेषज्ञ की सलाह और मार्गदर्शन पर सेवन करें।

बैधनाथ स्वर्ण भस्म के नुकसान – Baidhyanath Swarna Bhasma ke nuksan in Hindi

• इस स्वर्ण भस्म को ज्यादा मात्रा में सेवन करने पर आपके शरीर में बेचैनी महसूस हो सकती है।

• इसके अलावा इसका ज्यादा सेवन शारीरिक शक्ति को बढ़ाने के बजाएं आपको पहले से ज्यादा कमजोरी महसूस करा सकता है।

• अगर आप इसे बिना डॉक्टर की जानकारी के बिना खुद से उपयोग कर रहे हैं और आपको इसकी सही मात्रा नहीं पता है तब इसे लेने से मानसिक स्थिति को नुकसान पहुंच सकता है।

• कुछ लोगों को इसका सेवन करने पर शरीर के किसी अंग में डैमेज होने की समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

नोट – अगर इसका सेवन करने पर स्वास्थ्य पर कोई भी समस्या नज़र आती है या आपको किसी भी तरह के साइड इफेक्ट होते हैं तो तुरंत इसका सेवन करना बंद कर दें। खासकर बच्चों को इसे देने से पहले डॉक्टर से जरूर पूछें, बिना डॉक्टर के यह बच्चों को नहीं देना चाहिए।

देखिए किसी भी चीज का सेवन कम मात्रा में बहुत ज्यादा फायदेमंद होता है लेकिन उसी को यदि ज्यादा मात्रा में और बिना जानकारी के लिया जाए तो आपको इसके बेहद बुरे नुकसान भी हो सकते हैं तो यदि आप स्वर्ण भस्म को ले रहे हैं या फिर लेना चाहते हैं तो डॉक्टर की देखरेख में ही इसका इस्तेमाल करें।

FAQs

Q. स्वर्ण भस्म कितने प्रकार की होती है?

स्वर्ण भस्म को विशेष रूप से तीन प्रकार में बांटा गया है श्रौत, स्मार्त और लौकिक।

Q. 1 ग्राम स्वर्ण भस्म की कीमत क्या है?

1 ग्राम स्वर्ण भस्म आपको 5 हजार से लेकर 12 हजार रुपए तक में मिल जाएगी।

Check price on Amazon..

Q. असली स्वर्ण भस्म की पहचान कैसे करें?

असली स्वर्ण भस्म की पहचान करने के लिए आपको देखना चाहिए कि यह सोने की तरह ही पीली और चमकदार है या नहीं। क्योंकि असली स्वर्ण भस्म बिल्कुल सोने की तरह ही दिखाई देती है।

Q. स्वर्ण भस्म में कितना सोना है?

इसके बारे में सही जानकारी तो नहीं है लेकिन इसको बनाने वाली ब्रांड दावा करती हैं कि स्वर्ण भस्म में 90% शुद्ध सोना होता है।

निष्कर्ष:

उम्मीद करते हैं कि आपको Baidyanath Swarna Bhasma के फायदे नुकसान इस्तेमाल का तरीका, के बारे में जो जानकारी मिली है आपके लिए उपयोगी रही है। स्वर्ण भस्म को बड़े पैमाने पर वैज्ञानिक शोध की आवश्यकता है लेकिन अभी तक जितने भी वैज्ञानिक अध्ययन किए गए हैं उनके आधार पर इसे यदि सावधानी से इस्तेमाल किया जाए तो यह बहुत लाभकारी साबित हो सकता है आशा करते हैं आपको हमारी पोस्ट पसंद आई इसे अपने दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें।

Saniya Qureshi is a Health and Beauty writer, senior consultant and health educator with over 5 years of experience.

Leave a Reply