आपके स्वास्थ्य को हो सकते हैं Antioxidants ke Nuksan, जानिए कैसे?

Antioxidants Ke Nuksan भी हो सकते हैं यह पढ़कर आपको भी थोड़ी हैरत जरूर हुई होगी, क्योंकि आज तक हम एंटीऑक्सीडेंट के फायदे ही सुनते आए हैं और इसीलिए हम हर चीज में एंटीऑक्सीडेंट के गुण भी ढूंढते हैं।

antioxidants ke nuksan
antioxidants ke nuksan

यह सच है कि एंटीऑक्सीडेंट के बहुत-से फायदे होते हैं लेकिन यह भी ध्यान रखें, अगर इसे सही तरीके से ना लिया जाए और जरूरत से ज्यादा इनका उपयोग किया जाए तो यह नुकसान भी कर सकते हैं।

इस आर्टिकल में हम जानेंगे Antioxidants आपके स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं, लेकिन इसके अधिक सेवन के परिणाम बुरे हो सकते हैं, इसके कौन-कौन से नुकसान हो सकते हैं सही तरीके से सेवन कैसे किया जा सकता है इनके नुकसान से कैसे बचा जा सकता है यह भी चर्चा करेंगे?

Antioxidants क्या है?

एंटीऑक्सीडेंट्स ऐसे उपयोगी रासायनिक तत्व होते हैं जो शरीर को विभिन्न प्रकार के फ्री रेडिकल्स के नुकसान से बचाने में मदद करते हैं। यह फ्री रेडिकल्स शरीर में कब्जा करके रोग उत्पन्न कर सकते हैं। तो Antioxidants इन्हें नियंत्रित करके शरीर को सुरक्षा प्रदान करते हैं, जिससे शरीर भविष्य में होने वाली बीमारियों से बच सके।

शरीर में Antioxidants का कार्य:

यह शरीर के लिए विभिन्न तरह के कार्य करते हैं इनमें मुख्य रूप से विटामिन सी और ई, सेलेनियम, बीटाकैरोटीन और अन्य बहुत सारे रसायन पाए जाते हैं जो की हमारी सेहत को रोगों से बचाने, फ्री रेडिकल्स से सुरक्षा देने और नुकसानदायक पदार्थ से बचाए रखते हैं।

एंटीऑक्सीडेंट कैसे प्राप्त होते हैं?

एंटीऑक्सीडेंट को आप विभिन्न तरह के खाद्य पदार्थ के सेवन से प्राप्त करते हैं:

स्वास्थ्यीय आहार: फल, सब्जियां और अनाज में एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में पाया जाता है इनसे सेहत को अच्छी मात्रा में फायदे मिल जाते हैं।

आहार पूरक: अगर किसी के शरीर में एंटीऑक्सीडेंट की कमी हो गई है तो वह सप्लीमेंट के द्वारा भी इसका सेवन कर सकते हैं। इसके लिए आपके स्वास्थ्य सलाहकार आपको सुझाव देंगे उनके अनुसार ही सप्लीमेंट का विकल्प चुनना चाहिए।

प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले रसायन: हर्बल चीजें भी एंटीऑक्सीडेंट का स्रोत होते हैं जैसे ग्रीन टी और जड़ी बूटियां यह चीज़ें नेचुरल तरीके से शरीर को रोगों से बचाने में मदद करती हैं।

नियमित यायाम: रोजाना कुछ समय के लिए योग और व्यायाम करना शरीर को detoxify करने के लिए बहुत अच्छा तरीका है इससे शारीरिक गतिविधियों की वजह से एंटीऑक्सीडेंट का स्तर बढ़ाया जा सकता है।

इसे पढ़ें: Health ok syrup के फायदे नुकसान उपयोग और इस्तेमाल का सही तरीका

एंटीऑक्सीडेंट के नुकसान क्या हैं? (Antioxidants ke Nuksan)

एंटीऑक्सीडेंट के बारे में जैसे-जैसे रिसर्च बड़ी है यह सामने आ गया है कि एंटीऑक्सीडेंट के फायदे ही नहीं बल्कि कुछ नुकसान भी हो सकते हैं। विशेष रूप से अगर आप इनका प्रयोग जरूर से ज्यादा करेंगे तो आपको कई तरह के नुकसान झेलने पड़ेंगे।

एक रिसर्च की माने तो ज्यादा मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट का सेवन से पारितंत्र की कोशिकाओं की कार्य क्षमता बाधित होती है जिससे इम्यूनिटी कमजोर हो सकती है और शरीर बीमारियों से घिर सकता है।

Antioxidants के ज्यादा मात्रा में: नुकसानकारी प्रभाव

विभिन्न तरह के हेल्थ इश्यूज:

अगर आप एंटीऑक्सीडेंट का सेवन जरूर से ज्यादा करते हैं तो इसके कारण आपको शारीरिक समस्याएं देखने को मिलेंगी जैसे कि पेट दर्द, लिवर समस्याएं, फेफड़ों से संबंधित रोग, और मानसिक दबाव भी इसके कारण हो सकता है।

एलर्जी:

इन्हें अधिक मात्रा में लेने से विभिन्न प्रकार की एलर्जी भी उत्पन्न हो सकती है क्योंकि हर किसी इंसान के लिए सभी चीज सूटेबल नहीं होती। तो कुछ लोगों को विशेष किसी एंटीऑक्सीडेंट के प्रति एलर्जी की शिकायत हो सकती है।

कोशिकाओं की कार्य क्षमता बाधित:

अगर शरीर में एंटीऑक्सीडेंट की मात्रा बहुत ज्यादा हो जाती है तो ऐसे में शारीरिक कोशिकाओं की कार्य क्षमता बाधित हो जाती है। जिसकी वजह से शरीर की कोशिकाएं ठीक से काम नहीं कर पाती और ऐसे में नसों में ब्लॉकेज की समस्या पैदा हो सकती है।

सामग्री संबंधित समस्याएं:

इसके अलावा जो सामग्री आप ले रहे हैं वह कितनी शुद्ध है और उससे मिलने वाले गुण आपके शरीर के लिए सही है या नहीं, इस बात पर भी एंटीऑक्सीडेंट की कार्य क्षमता निर्भर करती है तो अगर आप खराब चीज खा रहे हैं तो वह सामग्री आपके शरीर को खराब कर सकती है।

तनाव:

शरीर में किसी भी तरह का बदलाव मानसिक स्वास्थ्य को भी प्रभावित करता है अगर आपको इसकी अधिकता के कारण किसी भी तरह की शारीरिक दिक्कत होती है तो तनाव के chances रहते हैं जिससे मानसिक दबाव धीरे-धीरे बढ़ता है।

धातु की बढ़ती मात्रा:

इनमें मौजूद सेलेनियम अधिक मात्रा में लेने से शरीर में धातु की मात्रा बढ़ जाती है जिससे कई तरह के स्वास्थ्य रोग होने की संभावना भी बढ़ जाती है तो इनको ज्यादा ना लें तभी आपके लिए यह फायदेमंद रहेंगे।

सांस फूलना:

एंटीऑक्सीडेंट्स की ज्यादा खुराक श्वास नली पर भी प्रभाव डालती है इसके कारण फेफड़े के काम करने की क्षमता धीमी हो सकती है जिससे सांस लेने में परेशानी महसूस होती है।

गुर्दा समस्याएं:

एंटीऑक्सीडेंट को जरूर से ज्यादा लेने की वजह से गुर्दों में समस्या आए पैदा हो सकती हैं और गुर्दे की काम करने की शक्ति काम हो सकती है। जिससे कई तरह के स्वास्थ्य रोग बढ़ते हैं और शारीरिक कमजोरी आती है।

ब्लड प्रेशर की समस्या:

इनमें मौजूद सेलेनियम और विटामिन को यदि ज्यादा मात्रा में लिया जाए तो शरीर में ब्लड प्रेशर सामान्य नहीं रहता, उसका स्तर कम या ज्यादा हो सकता है। कुछ लोगों को लो ब्लड प्रेशर की समस्या तो कुछ को हाई ब्लड प्रेशर की समस्या देखने को मिल सकती है।

संतुलित मात्रा में Antioxidants का सेवन कैसे करें:

इनको संतुलित मात्रा में लेने से शरीर को कई तरह के लाभ मिलते हैं और शरीर बीमारियों से भी बचा रह सकता है लेकिन उसके लिए इन्हें सीमित मात्रा में लेने की जानकारी होनी चाहिए, एंटीऑक्सीडेंट में निम्नलिखित सभी चीज आती हैं तो इन्हें आपको dietitian की सलाह के अनुसार अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए:

  • विटामिन C:
  1. आम, संतरा, आंवला या अमरूद: रोज़ाना एक फल।
  2. ब्रोकोली, टमाटर और आंवला: रोज़ाना एक व्यक्ति के लिए 1-2 कप पर्याप्त रहते हैं।
  • विटामिन E:
  1. बादाम, काजू, अखरोट, और बीज: रोज़ाना 1 मुट्ठी।
  2. आंवला या बादाम तेल: खाने के लिए 1-2 छोटे चम्चे।
  • सेलेनियम:
  1. सेलेनियम युक्त अनाज: एक इंसान के लिए रोज़ाना एक कप।
  2. सूखें नट्स: रोज़ाना 2-3 नट्स जैसे अखरोट।
  • बीटा-कैरोटीन:
  1. नारंगी फल, गाजर, कद्दू, और शकरकंद: प्रतिदिन एक कप।
  2. पालक, मेथी, और हरी सब्जियां: रोज़ाना 1 कप।

यह सुनिश्चित करना बहुत जरूरी है कि आप अपनी डाइट को सही तरह से संतुलित रूप में सेवन कर रहे हैं ताकि आपको एंटीऑक्सीडेंट फायदे प्राप्त हो ना की यह आपके लिए नुकसानदायक रहे हैं आप स्वास्थ्य के मुताबिक सही मात्रा निर्धारित करने के लिए डाइटिशियन से सलाह ले सकते हैं।

निष्कर्ष:

तो दोस्तों: कोई भी चीज चाहे कितनी भी ज्यादा लाभकारी हो अगर आप उसे जरूर से ज्यादा लेंगे, तो वह आपके लिए साइड इफेक्ट देने का कारण जरूर बनेगी। इसीलिए अपने स्वास्थ्य की सुरक्षा को समझते हुए संतुलित मात्रा में किसी भी खाद्य पदार्थ का उपयोग करना चाहिए।

Saniya Qureshi is a Health and Beauty writer, senior consultant and health educator with over 5 years of experience.

Leave a Reply